Facebook

Heart touching best Gazal collection in Hindi - ( प्यार भरा गजल शायरी हिंदी मैं )

दोस्तों मेरा तरफ से प्यार भरा नमस्कार हम विभिन्न टॉपिक्स फॉर फराक फराक प्रकार के शायरी कविता गजल लेकर आपको देने के लिए कोशिश करता है आज मैं हिंदी गजल Heart touching Gazal collecation in Hindi टॉपिक फॉर हिंदी ग़ज़ल लिखने की कोशिश किया है।

आज फिर जीवन का संघर्ष उतार चढ़ाव तो हर आदमी का जिंदगी पर आते रहता है  सुख जीवन मिले तो खुश हो जाते हैं दुख जीवन मिलेगा तो दुखी हो जाता है ।

हम आज Heart touching Gazal collecation in Hindi  पर इसी चीज को समेट कर हर आदमी का लड़का लड़की हो बुढ़ापा का  अवस्था हो हर उम्र का  व्यक्ति सुख पर हो या दुख पर हो ।

या फिर संघर्ष पर सभी प्रकार के ग़ज़ल लिखने के कोशिश किया है कैसे लगेगा आपको आपका राय सुझाव का अपेक्षा करते हैं Heart touching Gazal collecation in Hindi पर कमेंट करना मत भूलना।



https://www.nepalishayari.com/2020/05/blog-post.html
HIndi gazal photo



आप मेरी जान 

जब से मेरी आप से मुलकात हो गई है,
दोस्त कहे हैं आप मेरी जान हो गई है,

अज़ीब कश्मकश में उलझा हुआ हूँ मैं 
अब हर साण मेरी आपकी गुलाम हो गई है,

जब से आया है आप मेरी जिंदगी में,
हर ख़ुशी दिल से हम-ज़ुबान हो गई है,

आपे होथों पार क्या आया गजलीन मेरी,
उस दिन मेरी हर शायरी भी जीवन होगई हैं 

आप से हैं मेरी मेरी जिंदगी पे कादर,
हर एक मेरी धड़कन आपकी गुलाम हो गई है,

जी चाहता है बाहों में समते लोग अपना,
सुकुन छिन गया है, नीड़ हराम हो गया है,

डेखर खूली हुई ज़ुल्फ़िन आपे एह सनम,
घतायेँ शाम की परधान हो गई है,

सुनकर झंकार औपकी पायल की एह सनम,
महफ़िल संगीत की बेजुबान हो गई है,

जब से मेरी आप से मुलकात हो गई है,
दोस्त कहे हैं आप मेरी जान हो गई है ...


एक बेबफा हैं 

एक बेवफा कोई अपना हमराज बनकर,
अब पछुता रह हैं अपना अपना दिलवाकर,

हमारे बेवफा ने जिंदगी मैं आग लग दी,
जीस दिल में बस गया था चांदनी बनकर,

साहमे हुई फूल ये मेरी मोहब्बत के,
बेरंग हो चुके हैं आंसुं में नाहकर,

अलाह केर उपयोग भइ कबि न आवै,
जो ले गया है मेरी आंखें नीर चूरकर,

फूलन के सेज़ उस्को कभी रास ना आए,
जो गया है मेरी राही में कांटे बिछाकर,

तदपेगा तू भी एक दिन मेरी तराह से,
ए सनम रोयेगा तकीये को सीन से लगकर,

मैँ तोह आंसुँ को अपना मुकद्दर बन लिया,
ए बेवफा खुश तू भी ना मिलेगा रुलाकर,

एक बेवफा कोई अपना हमराज बनकर,
अब पछता रहा है अपना दिल गंवाकर…


हिंदी ग़ज़ल हमारी संस्कृति पर  पहले से ही मौजूद है हिंदी काजल जितना ही पुराना है फिर भी उसका टेस्ट तेज उतना ही अच्छा है गजल हम अपना जिंदगी पर काटते घटनाएं जीवन संघर्ष उतार-चढ़ाव पर हम गजल वाचन करते हैं और लिखते हैं।

गजल सुनकर हर आदमी मंत्रमुग्ध हो जाता है  गजल का वाचन भाषण कैसे भी कर सकते हैं या फिर लिखकर दूसरा आदमी को शेयर कर सकते हैं इस बार विभिन्न प्रकार के सिचुएशन को समेट कर गजल तैयार किया है।

 तू मेरी जिंदगी है

तुझ चाहते हैं एह सनम बस तेरी आरजू है,
तू  हर ख़ुशी है मेरी, तू मेरी जिंदगी  है,

मुझ दुनी से गरज क्या तू मेरी जुजु है,
बास तेरे दाम से हमदम मेरी दुनी हांसी है,

हाथन में तेरे सनम मेरे प्यार के आबूरो है,
तेरे नाम पर कुर्बान मेरी जान-ओ-जिंदगी है,

तू सौमने है मेरे तो खुदा रू-ब-रू है,
तू ही चाहत की मंज़िल, तू ही मेरी बंदगी है,

तुझ चाहते हैं एह सनम बस तेरी आरजू है,
तू मेरी हर खुशी है मेरी तू जिंदगी है ,  ...


प्यार मेरा बेहता दिल

मायुस दिल में, दिल-ए-नक़म हो गया,
रूकसत हो दुनिया से मुजे आराम हो गया,

मुख्य हर तराह से दोशी हो गया,
गलति की कैसी और ने, नाम मेरा हो गया,

क्या तसनागी की आग, उसि से बुझी,
मुख्य पैनी पीठ-पीठ, शारबी हो गया,

आशिक की कमज़ोरी की कुछ इंतेहा नहीं,
गया वही जहान है जीवान का इसलाम हो गया,

दिल मेरा बताब है उसपे प्यार किया,
आंखें प्याला हो गई दिल में जमाना हो गया,

रहता है अपना मुकद्दर है अपना अपना,
वहीँ प्यार के मारन में शामिल हो गया,

दुनियाँ में हर मश-हूर आडमी पइसे का गुलाम है,
लेकिन वो तो आप गुलम हो गया,

मयुष दिल में दिल-ए-नक़म हो गया,
रूकसत हो दुनिया से मुजे आराम हो गया…


https://www.nepalishayari.com/2020/05/beautiful-romantic-dard-bhari-love.html


इश्क मैं दिल ने 

इश्क में दिल ने बहोत काम निकला अपना,
सच्चा है, मिल गया है, प्यार वाला अपना,

धुन चलते हुए दमन ना संभला अपना,
काम-काज सब उलट फेर हो गया अपना,

कोइ दुनीया मैं नहीं है पुछने वाला अपना,
इश्क में दिल ने बहोत काम निकला अपना,


मेरा नसीव दर्द शायरी

मिलकर खो जाना मेरा नसीब थ,
वाह, ये दरद भी किता अजैब था,

मिला न इस्तेमाल करो एक घर का,
फुटपाथ पार सोया नसीब थ,

ता-उमर धुंडता राह उस्को,
रहोन में मेरा वो नसीब थ,

मुशकिल से प्यार हो गया,
की भीड में चली अजैब था,

काश थार जाटी ये लेहरिन एह खुदा,
कयोंकी मिल्ने वाला मेरा हबीब था,

मिलकर खो जाना मेरा नसीब थ,
वाह, ये दर्द भी कुछ अजिब है 


साया - सा  शायरी यादें पर

रतन का मंजर अज़ीब लगता है,
साया तेरी यादों का कहर लागता है,

लाहरीन आकर वापीस हो जाती है,
वो साहिल तनहा अज़ीब लगता है,

उसको यादों की केमत पाती है,
तबि तोह वोह दिल का मेराज़ है,

वो सनम मायुस है तो क्या हुआ,
फ़िर भी वो मेरा हबीब लगता है…


चाहात  रोमांटिक  और प्यार शायरी 

खामोश होथों का गर ईशर मिल जाए,
दिलकश नागमन का सहारा मिल जाए में,

आपी मस्त नज़रें बेकरार लागी हैं,
मुजे भी शयाद कोई नाजारा मिल जाए,

चु लोन आगर मेन इन सुरख होथों को,
सरद आहोन को तपता सहारा मिल जाए,

एह खुदा मन्नत अपना हो जाए गरीब,
अगार वो बिछा हमीं प्यार मिल जाए,

साहिल के दिल है, लहुरों की चाहत में,
उसके दिल में, दिल को एक हैं मिल गए,

खामोश होथों का गर ईशर मिल जाए,
दिलकश नागमन का सहारा मिल जाए ...


बेवफ़ा मोहब्बत शायरी

आग की वफ़ा में जो ख़ुद को जला दे,
मोहब्बत का मासूम रिश्ता निभाड़े,

अज अगार उन्की गलियों में जता होटा
उंकी यादों को आखीर जवाब क्या देता,

खंजर उतारती थी तनहाई जस दिल में,
अगार मुजे केते हैं, तो खोद को मीता देता

धरती बोली बंजार पड़ी है मोहब्बत की ए सनम,
काश चले जाना के, उनको भुला देता,

बेवफा न अगार एक मौका  दिया होटा,
ज़मने को भी मैं मोहब्बत सिख देता ..


मोहब्बत

तेरा नाज़्रों के , तू पलको की कामन राखे हैं
उन्की क्या बात है फूलन की जुबान राखे हैं

हम तो आंखें मुझे सांवरे हैं वाही सांवरेंगे
हम नही  जानते  आयन काहँ  राखे हैं

आपन कातिल भी उसी रोज रोज शर्मिंदा
हम भी खामोश बहुत आपनी जुबान राखे हैं

दिल कभी रेट  का साहिल नहीं होने देते 
ह्म महफूज वो कदमो के निशान राखे हैं

जिन पे तहरीर है बचपन की मोहब्बत अपनि 
आब मेरे घर के वो दरवेज़ काहँ राखे हैं


चाहत हिंदी शायरी प्रेमियों के लिए 

सिर्फ़ नज़र सी जालाते हो आग चाहातकी ,
जलकर क्यूं  बुझते हो आग के चाहातकी,

सर्द रटन मेँ भी तपन का एहसाँ राहे,
हवा देवर बढ़ाते हो  आग चाहातकी,

आपकी नाज़्रों में मेरे प्यार का ठिकाना,
हम से क्यूं छिपाते हो आग चाहत की,

नाज़ुक जिस्म पार उन्गलिया  जो राखदुं ,
बदी खुसी से छूप्पेते  हो आग चाहत की,

फूलसे लिपाटकर बिकार जाऊ मुज पार,
अरमानो से लुटाते  हो आग चाहत की,


दिवाना प्यार शायरी  हिंदी में

ये मौसम भी है दीवाना आपका,
एह सनम इनायत आपि बहना आपका ,

कु छ राह-गयर आय वहीँ से,
शयद लेये मान अफसाना आपका,

एह हव खुश्बू  लेकर आना  उनकी ,
नहि चलेगा अब कोई बहना आपका ,

मलूम है आपको आदत  हैं मुझसे आपकी,
कयोंकी मैं हूं, जान पहिचान आपका,

भीगो दे उसे  मेरे प्यार के रंग से,
सुख पदा है जो आशियाना आपका ,

ये मौसम भी है दीवाना आपका ,
ए सनम इनात आपकी बहना आपका  ...


उसी की कमी है

ज़िंदगी का हिस्सा है तेरी धड़कन मेरा,
 एक अहम् हिस्सा है तू ज़िंदगीका मेरा,
सिर्फ़ लफ्जों की नहीं है मेरी मोहब्बत तुझसे,
तुम्हारी रूह से रूह तकका रिश्ता है मेरा !

अगर तुम भी हो सलामत, भुला के मुझको,
संभलना मुझे भी आता है, भुला के तुझको ,
फितरत में ये आदत मेरा नहीं है ,
बदलना तेरी तरह  मुझे भी आता है..!

आँखों की नमी है या आंसुओं की बूँदें हैं  ,
न नीचे ज़मी है न ऊपर आसमां है ,
ज़िन्दगी का ए  कैसा मोड़ है ,
उसी की कमी है और उसी की ज़रूरत है !

अगर आपको अच्छा लगा कृपया शेयर कर दीजिए अगर आपको अच्छा ना लगा तू हमको जरूर कमेंट करके बताइए हम और अच्छा बनाने के लिए कोशिश रहेगा धन्यवाद।

Post a comment

0 Comments