Facebook

HIndi Shayari , Sad Shayari - प्यार में दर्द भरी गम शायरी हिंदी में लिखी हुईं


दोस्तों जिंदगी मैं हर तरहका उपर निचे चलती रहता हैं। Hindi Shayari जब जब एक सुन्दर सा लड़का हो या लड़की बड़े हो जाती है तब एक दूसरे से प्यार होजाता हैं मन पसंद कर लेता हैं। जब दिल से बोले मैं उसीको उसको महोबत प्यार करने लगते हैं तो 

उसको बहुति दिप लव वयाक्त करनेके लिए मन की बात उस तक पहुंचने के लिए हर संभब कोसिस करलेता हैं ज्यादा तर लड़का लड़की शायरी की जरिए उसको दिल की बात लेता हैं।

 लव शायरी प्यारकी शायरी प्यार में धोका होने वाला आदमी  Sad shayari (गम शायरी) को धुन लेते हैं। दिलमे उस वक्त दर्द महसूस होता हैं उस दर्द को काम करने के लिए शायरी भी एक दोस्त बना डेटा हैं। 

प्यार में दर्द भरी गम शायरी हिंदी में लिखी हुईं 


https://www.nepalishayari.com/2020/05/beautiful-romantic-dard-bhari-love.html


बीच में न लाया करो

वक्त गुजारने हर किसी से बात न किया करो,
झूठ बोलने से पहले कुछ तो शर्म किया करो

बेशक तुम सही कहते होंगे ख़ुदको,
दूसरों पर भी उंगलिया न उठाया करो 

चले तो जाना ही है एक दिन तुमको चले जाना 
जाने की बात कहकर ये दिल न दुखाया करो

वक्त काटना है काट लो ,कोई सवाल नहीं
इन जज्बातों को फिर बीच में न लाया करो


आई होगी

क्या नींद उसे भी आई होगी, 
ये रात सोचते गुजरेगी। 
उसे भी बेचैनी छाई होगी, 
ये रात सोचते गुजरेगी।

मेरे इज़हार-ए-मोहब्बत पर, 
उसकी जाने क्या हालत होगी, 
नाराज हुई होगी मुझपर, 
या मन्द-मन्द मुस्काई होगी। 
ये रात सोचते गुजरेगी, 
क्या नींद उसे भी आई होगी।

क्या करवट बदल रही होगी? 
या कमरे में टहल रही होगी? 
या देख के खुद को शीशे में, 
खुद पर फिर से इतराई होगी। 
ये रात सोचते गुजरेगी, 
क्या नींद उसे भी आई होगी।

शायरी दुनियाँ एक अनमोल आलौकिक सा हैं। Hindi Shayari सदियों से अपना अपना मन की बात शायरी की जरिए बोली जाती हैं इस शब्दको सुनके जो कोही भी खुस मत रहा जाता हैं हिंदी शायरी सुनके । अपना मन की बाटे बिचार अपना रिश्ते को ज्याद तर प्रयोग किया जाता हैं। 

दुनिया बसाई थी मैंने


ख्वाबों की एक दुनिया सजाई थी मैंने,
प्यार की एक छोटी कुटिया बनाई थी मैंने ,

उसके -मेरे सपनों को एक मान कर,
जुड़ने की एक आश लगाई थी मैंने ।

उसकी पलकों की छांव में रहने की,
अलग ही एक सोच जगाई थी मैंने

पंख लगाए हुए अपने इन सपनों को,
उड़ने की एक तलब उठाई थी मैंने 

कांटो से घिरी हुई अपनी।   'जिंदगी को'
फूलो की एक सेज पर सुलाई थी मैंने

कुछ ऐसे उसको अपना मानकर 
अलग ही एक दुनिया बसाई थी मैंने 

 दीखवे से नहीं दिल से होटी

क्यु केहते हैं लॉग ये बाड़े शोर से
महोबत कटे ह हम बडे जोर से

ऐसे तो ये ह अनसे महोबत करणी न अती
चीजे क्या एच महोबत इंसे पेहचानि न जाति

जस दिन इन्हे महोबत का मतलब समाज अयेगा
अस दिन इंकी दुनीया का रंग बादल जयगा

महोब्बत कभी केसी बूरा नहीं छती
सच्चि महोबत लोगो कोउ नक्सन नहि पहूचति

महोबत सिरफ जूनून नइ एक पाकीजा एहससा गया
जिस्म जिया हुआ हर लम्हा ख़ास हो गया

महोबत का मतलाब सिरफ पाना न होटा
क्या एहसस से केसी दिल दिल से नहाता

सच्चि महोब्बत कभी न कभी
दो जिस्म को एक जान करके दीखना

महोबत से बहूत पाकीजा होति ह
जो दीखवे से नहीं दिल से होटी…


कोई अजीज नहीं होगे

मात पुछना खफा होन का सबब मुजसे
कैस कैसे खेले एच क़िस्मत ने ख़िल मुजसे
आब कइसे छुपौ डार आपन कोइसे टूत गइ मेरा सपना
क्या अब कुछ भी थे होगे, मेरा कोई अजीज नहीं होगे


भरोसा न कीया

जेन कोन सी कलाम से खुदा न नसीब लिखा
निह क़िस्मत मैं कोइ हबीब लिखा

क्या कभी खुशी के पल नसीब न होंगें
क्या जिंदगी के सब पल ऐस ही होंगें

करो पाल की ख़ुशी मांगी थी खुदा से
सबकी ख़ुशी मांगी थी आपनी दुआ से

सज़ा क्यू मिल्टी इस हमशा बेकासुर को
गाम ही क्यूं मिल्ते ह गामो से चूर को

कस कोइ देत हमरे सवलो के जावब
वो पाल होटे बहूत ला जावब

दुःख इस्कि नहि के लोगो ने जेने निह दीया
अफ्सो टू इस्का इस की अपनो ने भरोसा न कीया ...


जिंदगी हमारी

क्या खो गया ज़माने की वफ़ा दीखते रहिए
हर बात मैं हम खाता दे खते
यू टू ज़मने न बडले बहूत रंग
पार हम तो उस्की ज़फा देखते राहे
मुशकिलो मैं थी जिंदगी हमारी
हम तो बस हलातो का माज़ा देखेते रहे
अपने कहे को बहुत मिले
पार हम उस्का एहसे देखते राहे
यू टू चाहत का समुंदर थ हमरे पस
हम किससे मिलेंगे क्या रहा ...


चाहत

सिरफ नज़र सी जालाते हो आग लग गई,
जलकर क्यूं बुझते हो आग के चात की,
आपी नाज़्रों में मेरे प्यार का ठिकाना,
हम से क्यूं छीपेत हो तुम चाहत की,


बहना 

ये मौसम भी है दीवाना आप,
एह सनम इनायत की बहना आप,
कु छ राह-गयर आय वहीँ से,
शयद लेये मान अफसाना आप,

एह हव कुशबो लइकर आना उनकी,
नहि चलेगा अब कोई बहना,
मलूम है आपको आज तक मुझसे,
कयोंकी मुख्य हूं जान पधारना अपना,

हैं भीगो दे यूज़ मेरे प्यार के रंग से,
सुख पदा है जो आशियाना अपना,
ये मौसम भी है दीवाना आप,
एह सनम इनात आपे बहना आप ...


https://www.nepalishayari.com/2020/05/best-ghazal-collection.html


मोहब्बत 

वफ़ा की आग में जो ख़ुद को जला दे,
अनस मोहब्बत का मुख्य रिश्ता निभा,

अज अगार उन्की गलियों में जता मोह
उन्की यादों को आखीर जवाब क्या डेटा,

खंजर उतारती थी तनहाई जस दिल में,
अगार मुजे कहते , मोह खोद को मीता देटा ,

बंजार पड़ी है मोहब्बत की धरती बोली, ए सनम,
काश चले जाना के, अनको भुला देता ,

बेवफा न अगार एक मोका दिया होटा,
ज़मने को भी मुख्य मोहब्बत सिख डेटा ...

सहारा मिल जाए 

खामोश होथों का गर ईशर मिल जाए,
दिलकश नागमन का सहारा मिल जाए
आपी मस्त नज़रें बेकरार लागी हैं,
मुजे भी शयाद कोई नाजारा मिल जाए,

चुह लोन अगार मेन इन सुरख होथों को,
सरद आहोन को तपता सहारा मिल जाए,
एह खुदा मन्नत अपना हो जाए गरीब,
अगार वो बिछा हमीं प्यार मिल जाए,

लहुरों की चाहत है, साहिल के दिल में,
उसके दिल में, दिल को एक किन्नर मिला जाए,
खामोश होथों का गर ईशर मिल जाए,
दिलकश नागमन का सहारा मिल जाए ...


हबीब लगता है

रतन का मंजर अज़ीब लगता है,
साया तेरी यादों का कहर लागता है,

लाहरीन आकर वापीस हो जाती है,
वो साहिल तनहा अज़ीब लगता है,

उसको यादों की केमत पाती है,
तबि तोह वोह दिल का नाराज  है,

वो सनम मायुस है तो क्या हुआ,
फ़िर भी वो मेरा हबीब लगता है…


कुछ अजिब

मिलकर खो जाना मेरा नसीब थ,
वाह, ये दरद भी किता अजैब था,

मिला न इस्तेमाल करो एक घर का,
फुटपाथ पार सोया नसीब था 

ता-उमर धुंडता राह उस्को,
रहोन में मेरा वो नसीब था 

मुशकिल से प्यार हो गया,
की भीड में चली अजैब था,

काश थार जाटी ये लेहरिन एह खुदा,
कयोंकी मिल्ने वाला मेरा हबीब था,

मिलकर खो जाना मेरा नसीब था,
वाह, ये दरद भी कुछ अजिब था ...

रोमांटिक  लव  शायरी 

प्यार न छोडा आसार ढेरे-धीरे,
क्या हुआ मुई नज़र नज़र-डरेरे,

चहत से भीरा हुआ माचल दिल,
काफ़िर हुई मस्तानी नज़र डेरे-डरेरे,

अलहद आद्या थी उन्की पहले है त्रा,
अब दिवांगी चड्ती उमर ढेरे-धीरे,

उमादता गया मस्ती का समा फिजा में,
उथा अब जवानी का भंवर ढेरे-ढेरे,

सुरख लट उत्रे मैदान में एक साथ,
पुरी हुई उसकी हर कसम ढेरे-धीरे,

सरका जो आँचल फेर संवारने ना दीया,
माधोस हो गया प्यार में धीरे-धीरे,

सांसो की सबनाम ये अहो के शोले,
होए गइ सब बन-आसर धेरे-धीरे,

तालाब रहती है खो जाऊँ तुझ में,
होति रहै शब मीन शहरे धेरे-धेरे

दोस्तों आप लोग Whats App, Facebook, social media पर हिंदी प्यार भरा शायरी  शेयर कर सकते हो आपको कोही चार्ज नहीं लगेगा पर मेरे लिए आपका एक प्रौत्साहन  मिलेगा सायरी में किया कमजोरी हैं जरूर कमेंट करिएगा। 

Post a comment

0 Comments