Facebook

New Sad shayari in Hindi for girlfriend ( प्रेमिका के लिए हिंदी में नई दु:ख भरी शायरी )

New sad shayari in Hindi for girlfriend 

 प्यारे दोस्तों आज हम प्रेमिका के लिए दुखदाई हिंदी शायरी New sad shayari in Hindi for Girlfriend टॉपिक्स पर दुखद, प्रेरणा,प्यार का सभी प्रकार का शायरी मिश्रण करके आपके पास लेकर आया हूं।

इस शायरी पर प्रेमिका के लिए कुछ  दुखद  पाल का शायरी को विशेष ध्यान देते हुए हैं लिखने की पूरी कोशिश की है सभी विजिटर को सोच समझकर सभी तरह का शायरी New sad shayari in Hindi for girlfriend  पर लिखा है शायरी बोलना बातचीत करना हर किसी को फटाक से नहीं आता है।

अगर आप लोग को ऐसा वाला शायरी पसंद है तो आप लोग इसको पढ़कर आराम से दूसरे का दिल पर शब्दों का बीजारोपण कर सकते हैं मैं इस पर छोटा-छोटा शायरी लिखकर रखा है आप लोग का किस प्रकार का शायरी पसंद है वह कमेंट पर बताना।

https://www.nepalishayari.com/2020/03/heart-touching-motivational-new.html
Shayari photo



Beautiful shayari collection


उसे हम याद आते हैं फ़क़त फुर्सत के लम्हों में...
मगर ये बात भी सच है उसे फुर्सत नही मिलती...
हम तस्लीम करते हैं हमे फुर्सत नही मिलती...
मगर जब याद करते हैं तो ज़माना भूल जाते हैं...

use ham yaad aate hain faqat phursat ke lamhon mein...
magar ye baat bhee sach hai use phursat nahee milatee...
ham tasleem karate hain hame phursat nahee milatee...
magar jab yaad karate hain to zamaana bhool jaate hain..

ज़माना भूल जाते है तेरे एक दीद के खातिर...
ख्यालों से निकलते हैं तो सदियाँ बीत जाती हैं..
सदियाँ बीत जाती है ख़्यालों से निकलने में...
पर जब जब याद करता हूँ तो आँखे सरे भीग जाती है..
जरा सी देर के लिए सब कुछ भुला के देख लेते है
तुम्हे हम सामने बैठा कर देख लेते है।
कैसे होते है वो चेहरे जो भी चाँद शर्माए
थोड़ा सा जुल्फे हटा कर तेरे चेहरा देख लेते है।
zamaana bhool jaate hai tere ek deed ke khaatir...
khyaalon se nikalate hain to sadiyaan beet jaatee hain..
sadiyaan beet jaatee hai khyaalon se nikalane mein...
par jab jab yaad karata hoon to aankhe sare bheeg jaatee hai..
jara see der ke lie sab kuchh bhula ke dekh lete hai
tumhe ham saamane baitha kar dekh lete hai.
kaise hote hai vo chehare jo bhee chaand sharmae
thoda sa julphe hata kar tere chehara dekh lete hai.



तमन्ना थी तुम भी अपनी बात करो
रातो को जग के मेरे साथ रात करो।
सवालो का सिलसिला ऐसे चलता 
बस बाँहों में आकर पूरी कायनात करो।

tamanna thee tum bhee apanee baat karo
raato ko jag ke mere saath raat karo.
savaalo ka silasila aise chalata
bas baanhon mein aakar pooree kaayanaat karo.

साथ निभाना सीखा है तुझसे 
प्यार जताना सीखा है तुझसे।
तेरी महकी सी साँसों में रहने लगे हैं 
ख्वाबों - ख़यालों में बहने लगे हैं।

saath nibhaana seekha hai tujhase
pyaar jataana seekha hai tujhase.
teree mahakee see saanson mein rahane lage hain
khvaabon - khayaalon mein bahane lage hain.

मेरी फितरत में नहीं 
अपना गम बयां करना।
अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूँ 
तो महसूस कर तकलीफ मेरी।

meree phitarat mein nahin
apana gam bayaan karana.
agar tere vajood ka hissa hoon
to mahasoos kar takaleeph meree.

अभी तो दोस्ती करने का मन बनाया
तकरार करूं कैसे ?
अभी ताे खफा़ नज़र आ रही है
इकरार करूं कैसे  ?

abhee to dostee karane ka man banaaya
takaraar karoon kaise ?
abhee taae khapha nazar aa rahee hai
ikaraar karoon kaise  ?

जाने क्या था जाने क्या है 
जो मुझसे छुट रहा है 
यादें कंकर फेंक रही है 
और दिल अंदर से टूट रहा है

jaane kya tha jaane kya hai
jo mujhase chhut raha hai
yaaden kankar phenk rahee hai
aur dil andar se toot raha hai

इतनी चाहत के बाद भी 
तुझे एहसास ना हुआ,
जरा देख तो ले, 
दिल की जगह पत्थर तो नहीं...

itanee chaahat ke baad bhee
tujhe ehasaas na hua,
jara dekh to le,
dil kee jagah patthar to nahin...

बेगुनाह कोई नहीं है, 
सबके राज़ होते हैं..
किसी के "छुप" जाते हैं, 
तो किसी के "छप" जाते हैं..

begunaah koee nahin hai,
sabake raaz hote hain..
kisee ke "chhup" jaate hain,
to kisee ke "chhap" jaate hain..

Friendship shayari


हम रूठे दिलों को मनाने में रह गए,
गैरों को अपना दर्द सुनाने में रह गए,
मंज़िल हमारी, हमारे करीब से गुज़र गयी,
हम दूसरों को रास्ता दिखाने में रह गए।

ham roothe dilon ko manaane mein rah gae,
gairon ko apana dard sunaane mein rah gae,
manzil hamaaree, hamaare kareeb se guzar gayee,
ham doosaron ko raasta dikhaane mein rah gae.

जिन्दगी में हर एक का एक सपना होता है
पर क़िस्मत का खेल देखो 
वो सपना टूट जाता है
या उसे पूरा करने का समय छूट जाता है

jindagee mein har ek ka ek sapana hota hai
par qismat ka khel dekho
vo sapana toot jaata hai
ya use poora karane ka samay chhoot jaata hai

सब्र और सहनशीलता
कोई कमजोरियां नहीं होती
ये तो अंदरुनी ताकत है
जो सब में नहीं होती

sabr aur sahanasheelata
koee kamajoriyaan nahin hotee
ye to andarunee taakat hai
jo sab mein nahin hotee

इन्सान जिंदगी मे बहुत कुछ सीखता है
लेकिन जब तक दुसरो से प्यार करना
दुसरो को माफ करना और दुसरो की 
इज्जत करना नही सीख जाता  
समझो कुछ नही सीखा।

insaan jindagee me bahut kuchh seekhata hai
lekin jab tak dusaro se pyaar karana
dusaro ko maaph karana aur dusaro kee
ijjat karana nahee seekh jaata
samajho kuchh nahee seekha.

दिल की तमन्ना इतनी है 
कुछ ऐसा मेरा नसीब हो
मैं जहाँ जिस हाल में रहुँ 
बस तू मेरे करीब हो

dil kee tamanna itanee hai
kuchh aisa mera naseeb ho
main jahaan jis haal mein rahun
bas too mere kareeb ho

हर पतंग जानती हैं
अंत में कचरे में ही जाना हैं
लेकिन उससे पहले हमें
आसमाँ छुके दिखाना हैं
har patang jaanatee hain
ant mein kachare mein hee jaana hain
lekin usase pahale hamen
aasamaan chhuke dikhaana hain

मैं इस खुदा काे कैसे मानूँ 
मेरी ताे मां खुदा है ...  
हां पापा बहुत प्यार करते हैं 
पर मां सबसे जुदा है ..

main is khuda kaae kaise maanoon
meree taae maan khuda hai ...
haan paapa bahut pyaar karate hain
par maan sabase juda hai ..

ज़िन्दगी के सफ़र में मैंने 
अब तक तो यही जाना है
ख्वाहिशों का हाथ 
अक्सर मजबूरियों ने थामा है!

zindagee ke safar mein mainne
ab tak to yahee jaana hai
khvaahishon ka haath
aksar majabooriyon ne thaama hai

आज बहुत दिनों बाद 
कोई बहुत याद आया है।
ये क्या दिल की खूबसूरती है 
या किसी का साया है।।

aaj bahut dinon baad
koee bahut yaad aaya hai.
ye kya dil kee khoobasooratee hai
ya kisee ka saaya hai..

मंज़िले हमारे 
करीब से गुज़रती गयी, 
 और हम औरो को 
रास्ता दिखाने में ही रह गये

manzile hamaare
kareeb se guzaratee gayee,
 aur ham auro ko
raasta dikhaane mein hee rah gaye

गुज़र गया वो वक़्त 
जब तेरी हसरत थी मुझको, 
अब तू खुदा भी बन जाए 
तो भी तेरा सजदा ना करूँ…

guzar gaya vo vaqt
jab teree hasarat thee mujhako,
ab too khuda bhee ban jae
to bhee tera sajada na karoon…


Sad Shayari


मेरे शरीर का हर अंग 
मुझसे पूछ कर काम करता है 
बस आंखों से बहने वाले आंसू 
बिना कहे ही चले आते हैं

mere shareer ka har ang
mujhase poochh kar kaam karata hai
bas aankhon se bahane vaale aansoo
bina kahe hee chale aate hain

ज़िन्दगी खूबसुरत है 
पर तुझे जीना नहीं आता 
हर चीज में नशा है 
पर तुझे पिना नहीं आता

zindagee khoobasurat hai
par tujhe jeena nahin aata
har cheej mein nasha hai
par tujhe pina nahin aata

ये जो जिंदगी की किताब है...
ये किताब भी क्या किताब है...
इंसान जल्दी संवारने में व्यस्त है...
और पन्ने बिखरने को बेताब हैं...

ye jo jindagee kee kitaab hai...
ye kitaab bhee kya kitaab hai...
insaan jaldee sanvaarane mein vyast hai...
aur panne bikharane ko betaab hain...

वहाँ तक तो साथ चलो 
जहाँ तक साथ मुमकिन है,
जहाँ हालात बदल जाएँ 
वहाँ तुम भी बदल जाना।।

vahaan tak to saath chalo
jahaan tak saath mumakin hai,
jahaan haalaat badal jaen
vahaan tum bhee badal jaana..

वो जो सूरत है बड़ी खूबसूरत है।
शिद्दत से तराशी हुई खुदा की एक मुरत है।।
आँखों में नजा़कत और चेहरे पर टपका नुर है।
वो जो चाँद ऊपर है उसकी क्या जरूरत है।।
vo jo soorat hai badee khoobasoorat hai.
shiddat se taraashee huee khuda kee ek murat hai..
aankhon mein najakat aur chehare par tapaka nur hai.
vo jo chaand oopar hai usakee kya jaroorat hai..

उनकी आँखों से शब्द चुराकर।
मैं अक्सर गजल लिखता हूँ।।
हर गजल में तुम्हे लिखता हूँ।
हर गजल में तेरी ही सूरत है।।
वो जो सूरत है बड़ी खूबसूरत है।

unakee aankhon se shabd churaakar.
main aksar gajal likhata hoon..
har gajal mein tumhe likhata hoon.
har gajal mein teree hee soorat hai..
vo jo soorat hai badee khoobasoorat hai.

पढ़ लेना दिल का "दर्द"
कहीं..."अल्फाज़"...बदल लेते हैं "हम".....
आंखों में "नमी" आ जाए
तो..."आवाज़"...बदल लेते हैं "हम"....

padh lena dil ka "dard"
kaheen..."alphaaz"...badal lete hain "ham".....
aankhon mein "namee" aa jae
to..."aavaaz"...badal lete hain "ham".....

जिसके लफ़्ज़ों में हमें 
अपना अक्स मिलता है,
बड़े नसीब से 
ऐसा कोई शख़्स मिलता है..!!

jisake lafzon mein hamen
apana aks milata hai,
bade naseeb se
aisa koee shakhs milata hai..!!

क्यूँ हम किसी के ख्यालो मे खो जाते है,
एक पल की दूरी मे रो जाते है..
कोई हमे इतना बता दो की, हम ही ऐसे है
या प्यार करने के बाद सब ऐसे हो जाते है।

kyoon ham kisee ke khyaalo me kho jaate hai,
ek pal kee dooree me ro jaate hai..
koee hame itana bata do kee, ham hee aise hai
ya pyaar karane ke baad sab aise ho jaate hai.


Miss YOU Shayari


कितना प्यार है तुमसे, 
कैसे तुमे अपनी शायरी के सहारे बताऊँ....
महसूस कर मेरे एहसास को, 
अब गवाह मैं कहाँ से लाऊँ...!!

kitana pyaar hai tumase,
kaise tume apanee shaayaree ke sahaare bataoon....
mahasoos kar mere ehasaas ko,
ab gavaah main kahaan se laoon...!!

ए ख़ुदा कसमें सच्ची होती तो,
क्या हो गया होता।
उसने खाई थी कसमें इतनी झूठी, 
के तू भी मेरे साथ मर गया होता।

e khuda kasamen sachchee hotee to,
kya ho gaya hota.
usane khaee thee kasamen itanee jhoothee,
ke too bhee mere saath mar gaya hota.

काश एक शायरी कभी 
तुम्हारी क़लम से ऐसी भी हो...
जो मेरी हो, मुझ पर हो और 
बस मेरे लिए ही हो...

kaash ek shaayaree kabhee
tumhaaree qalam se aisee bhee ho...
jo meree ho, mujh par ho aur
bas mere lie hee ho...

बार बार जाती है नजर क्यों
तुम पर मेरी कलम की..!!
शायद अधूरी मुहब्बत हो तुम 
मेरे पिछले जन्म की....!!

baar baar jaatee hai najar kyon
tum par meree kalam kee..!!
shaayad adhooree muhabbat ho tum
mere pichhale janm kee....!!

इस मतलबी दुनिया की
एक बात नीराली थी
सबके पास सब कुछ था
बस दिल वाली जगह खाली थी।

is matalabee duniya kee
ek baat neeraalee thee
sabake paas sab kuchh tha
bas dil vaalee jagah khaalee thee


Galib ki Shayari


सच्चे किस्से शराबखाने में सुने,
वो भी हाथ मे जाम लेकर,
झूठे किस्से अदालत में सुने,
वो भी हाथ मे गीता-कुरान लेकर....

sachche kisse sharaabakhaane mein sune,
vo bhee haath me jaam lekar,
jhoothe kisse adaalat mein sune,
vo bhee haath me geeta-kuraan lekar....

बचपन के दिन भुला ना देना
आज हंसे कल रुला ना देना
इचक दाना -पिचक दाना, दाने उपर दाना
कितना प्यारा था बचपन मस्ताना....

bachapan ke din bhula na dena
aaj hanse kal rula na dena
ichak daana -pichak daana, daane upar daana
kitana pyaara tha bachapan mastaana....

व्यवहारिक नही 
अब दुनिया व्यवसायिक है...
 सम्बन्ध उनसे ही मधुर है 
जिनसे मुनाफा अधिक है....

vyavahaarik nahee
ab duniya vyavasaayik hai...
 sambandh unase hee madhur hai
jinase munaapha adhik hai....

हाथ में कलम,
आंखों में ख्वाब लिए फिरता हूं।
मुझे मालूम है
कि ये ख्वाब झूठे हैं
और ख्वाहिशें अधूरी हैं
मगर जिंदा रहने के लिए
कुछ गलतफहमियां भी जरूरी हैं…
haath mein kalam,
aankhon mein khvaab lie phirata hoon.
mujhe maaloom hai
ki ye khvaab jhoothe hain
aur khvaahishen adhooree hain
magar jinda rahane ke lie
kuchh galataphahamiyaan bhee jarooree hain…

तेरी शान में क्या नज़्म कहूँ 
अल्फाज नही मिलते. . . 
कुछ गुलाब ऐसे भी हैं 
जो हर शाख पे नही खिलते. . .

teree shaan mein kya nazm kahoon
alphaaj nahee milate. .
kuchh gulaab aise bhee hain
jo har shaakh pe nahee khilate. . .


https://www.nepalishayari.com/2020/04/best-new-love-shayari-in-hindi-for.html
Love shayari image

भूल जाए तुमको कोई इरादा नहीं हैं
तेरे सिवा किसी और से वादा कोई नहीं हैं
निकाल देते दिल से शायद तुमको
मगर इस नादान दिल में कोई दरवाजा नहीं है

bhool jae tumako koee iraada nahin hain
tere siva kisee aur se vaada koee nahin hain
nikaal dete dil se shaayad tumako
magar is naadaan dil mein koee daravaaja nahin hai

सोचा था इस कदर उनको भूल जाएँगे,
देखकर भी अनदेखा कर जाएँगे,
पर जब जब सामने आया उनका चेहरा,
सोचा एस बार देखले, अगली बार भूल जाएँगे……
socha tha is kadar unako bhool jaenge,
dekhakar bhee anadekha kar jaenge,
par jab jab saamane aaya unaka chehara,
socha es baar dekhale, agalee baar bhool jaenge……

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है
धड़कता दिल न चाहकर भी, चुप रह जाता है 
कोई सभी कुछ कहकर, प्यार हो जाता है 
कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है

jab koee khyaal dil se takaraata hai
dhadakata dil na chaahakar bhee, chup rah jaata hai
koee sabhee kuchh kahakar, pyaar ho jaata hai
koee kuchh na kahakar bhee, sab bol jaata hai

सितारे भी जाग रहे हो, 
 रात भी सोई ना हो,
ऐ चाँद मुझे वहाँ ले चल जहाँ
  उसके सिवा कोई ना हो

sitaare bhee jaag rahe ho,
 raat bhee soee na ho,
ai chaand mujhe vahaan le chal jahaan
  usake siva koee na ho


Matlabi shayari


इस कदर हम उनकी मुहब्बत में खो गए
कि एक नज़र देखा और बस उन्हीं के हो गए
आँख खुली तो अँधेरा था देखा एक सपना था
आँख बंद की और उन्हीं सपनो में फिर सो गए
is kadar ham unakee muhabbat mein kho gae
ki ek nazar dekha aur bas unheen ke ho gae
aankh khulee to andhera tha dekha ek sapana tha
aankh band kee aur unheen sapano mein phir so gae

बहुत खूबसूरत है तुम्हारी मुस्कराहट, 
पर तुम मुस्कुराती कम हो। 
सोचता हूँ देखता ही रहू तुम्हे, 
पर तुम नज़र आती ही कम हो।

bahut khoobasoorat hai tumhaaree muskaraahat,
par tum muskuraatee kam ho.
sochata hoon dekhata hee rahoo tumhe,
par tum nazar aatee hee kam ho.

संगदिलों की दुनिया है ये, 
यहाँ सुनता नहीं फ़रियाद कोई,
यहाँ हँसते है लोग तभी, 
जब होता है बरबाद कोई।

sangadilon kee duniya hai ye,
yahaan sunata nahin fariyaad koee,
yahaan hansate hai log tabhee,
jab hota hai barabaad koee.

मुझसे बात ना करके वो खुश है 
तो शिकायत कैसी। 
और मै उसे खुश भी ना देख पाऊ 
तो मोहब्बत कैसी।

mujhase baat na karake vo khush hai
to shikaayat kaisee.
aur mai use khush bhee na dekh paoo
to mohabbat kaisee.

तेरे फ़ोटो की धूप से 
अब मैं ख़ुद को सेक रहा हूँ !
लग रहा कितने सदियों बाद 
तुझे फिर से देख रहा हूँ !

tere foto kee dhoop se
ab main khud ko sek raha hoon !
lag raha kitane sadiyon baad
tujhe phir se dekh raha hoon !

चुपके से आकर मेरे कान मे,
एक तितली कह गई अपनी ज़ुबान मे…
उड़ना पड़ेगा तुमको भी,
मेरी तरह इस तूफान मे…

chupake se aakar mere kaan me,
ek titalee kah gaee apanee zubaan me…
udana padega tumako bhee,
meree tarah is toophaan me…

ये दुनियाँ वाले भी बड़े अजीब होते है 
कभी दूर तो कभी करीब होते 
दर्द ना बताओ तो हमे कायर कहते 
और दर्द बताओ तो हमे शायर कहते है

ye duniyaan vaale bhee bade ajeeb hote hai
kabhee door to kabhee kareeb hote
dard na batao to hame kaayar kahate
aur dard batao to hame shaayar kahate hai

खुशियो के बेदर्द लुटेरो
गम बोले तो क्या होगा।
और खामोशी से डरने वालो
हम बोले तो क्या होगा।

khushiyo ke bedard lutero
gam bole to kya hoga.
aur khaamoshee se darane vaalo
ham bole to kya hoga.

साजिशें वो रचते है
 जिन्हें कोई जंग जितनी हो
मेरी कोशिश तो
 दिल जितने की होती  है.. 
ताकि रिश्ता कायम रहे जब तक जिंदगी हो।

saajishen vo rachate hai
jinhen koee jang jitanee ho
meree koshish to
dil jitane kee hotee  hai..
taaki rishta kaayam rahe jab tak jindagee ho.

निगाहें बदल गयी 
अपने और बेगाने की,
तू न छोड़ना दोस्ती का हाथ, 
वरना तम्मना मिट जायेगी 
कभी दोस्त बनाने की।

nigaahen badal gayee
apane aur begaane kee,
too na chhodana dostee ka haath,
varana tammana mit jaayegee
kabhee dost banaane kee.


Love Shayari


नशीली आँखों से वो जब हमें देखते है,
तो हम घबरा कर आँखे ही बंद कर लेते है,
कौन मिलाए उनकी आँखों से आँखे,
सुना है वो आँखों से ही अपना बना लेते है।
nasheelee aankhon se vo jab hamen dekhate hai,
to ham ghabara kar aankhe hee band kar lete hai,
kaun milae unakee aankhon se aankhe,
suna hai vo aankhon se hee apana bana lete hai.

कितनी जल्दी ज़िन्दगी गुज़र जाती है, 
प्यास भुझती नहीं बरसात चली जाती है, 
तेरी याद कुछ इस तरह आती है,
नींद आती नहीं मगर रात गुज़र जाती है।

kitanee jaldee zindagee guzar jaatee hai,
pyaas bhujhatee nahin barasaat chalee jaatee hai,
teree yaad kuchh is tarah aatee hai,
neend aatee nahin magar raat guzar jaatee hai.

कोई जन्नत का तालिब है 
कोई गम से परिशां है....
जरूरत सजदा कराती है 
इबादत कौन करता है..

koee jannat ka taalib hai
koee gam se parishaan hai....
jaroorat sajada karaatee hai
ibaadat kaun karata hai..

कश्तियाँ गलतफहमियों की,
झूठ के समुद्र में ,
कब तक बेख़ौफ़ चलेगी ..!!
डूब जायेगी खुद ब खुद ही ,
जिस वक्त भी वह ,
सच के किनारों से मिलेगी ...

kashtiyaan galataphahamiyon kee,
jhooth ke samudr mein ,
kab tak bekhauf chalegee ..!!
doob jaayegee khud ba khud hee ,
jis vakt bhee vah ,
sach ke kinaaron se milegee ...

तुझसे बेइंतहा बेपनाह मोहब्बत है
बस इतना क़ुबूल पाऊँ...
बता कौन सी राह से आऊँ कि
तुम तक पहुँच जाऊँ..

tujhase beintaha bepanaah mohabbat hai
bas itana qubool paoon...
bata kaun see raah se aaoon ki
tum tak pahunch jaoon..

हम ने दिल के दरवाज़े पर लिखा था 
अन्दर आना मना है,
इश्क़ ने आ के फ़रमाया, 
माफ़ कीजियेगा मैं अँधा हूँ।

ham ne dil ke daravaaze par likha tha
andar aana mana hai,
ishq ne aa ke faramaaya,
maaf keejiyega main andha hoon.

नहीं है ''शौक़-ए-तारीफ़'' 
सिर्फ़ जज़्बात लिखता हूं,
जो होता है ''महसूस-ए-ज़िन्दग़ी'' 
वो ही तो अल्फ़ाज़ लिखता हूं।

nahin hai shauq-e-taareef
sirf jazbaat likhata hoon,
jo hota hai mahasoos-e-zindagee
vo hee to alfaaz likhata hoon.

कोई कुछ कहना चाहता है, 
तो कोई चुप हो के सुनना चाहता है, 
पर हर कोई अपनी जिंदगी जीना चाहता है।।

koee kuchh kahana chaahata hai,
to koee chup ho ke sunana chaahata hai,
par har koee apanee jindagee jeena chaahata hai..

कुछ दूर हमारे साथ चलो, 
हम दिल की कहानी कह देंगे,
समझे ना जिसे तुम आखो से, 
वो बात जुबानी कह देंगे ।

kuchh door hamaare saath chalo,
ham dil kee kahaanee kah denge,
samajhe na jise tum aakho se,
vo baat jubaanee kah denge .

प्यार-मोहब्बत की बस इतनी सी कहानी है,
इक टूटी हुई कश्ती और ठहरा हुआ पानी है,
इक फूल जो किताबों में कहीं दम तोड़ चुका है,
कुछ याद नहीं आता किसकी निशानी है।
pyaar-mohabbat kee bas itanee see kahaanee hai,
ik tootee huee kashtee aur thahara hua paanee hai,
ik phool jo kitaabon mein kaheen dam tod chuka hai,
kuchh yaad nahin aata kisakee nishaanee hai.

ना चाहत के अंदाज़ अलग...,,
ना दिल के जज़्बात अलग...,,
थी सारी बात लकीरों की..,,
तेरे हाथ अलग,मेरे हाथ अलग।

na chaahat ke andaaz alag...,,
na dil ke jazbaat alag...,
thee saaree baat lakeeron kee..,,
tere haath alag,mere haath alag.

कारीगर हूं साहब, 
शब्दों की मिट्टी से महफ़िल सजाता हूँ....
किसी को बेकार, 
किसी को लाजवाब नज़र आता हूं.....

kaareegar hoon saahab,
shabdon kee mittee se mahafil sajaata hoon....
kisee ko bekaar,
kisee ko laajavaab nazar aata hoon.....

कहानी मेरी मैं खुद लिखुगां,
कुछ गम कुछ खुशियों के पल लिखूंगा।
तकदीर में लिखा कौन बदलेगा,
 जब मेरी किस्मत मैं खुद लिखुगा।
kahaanee meree main khud likhugaan
kuchh gam kuchh khushiyon ke pal likhoonga.
takadeer mein likha kaun badalega,
 jab meree kismat main khud likhuga.

हसरतें कुछ और हैं...
वक्त की इल्तजा कुछ और है...
कौन जी सका है...
ज़िन्दगी अपने मुताबिक...
दिल चाहता कुछ और है...
होता कुछ और है...

hasaraten kuchh aur hain...
vakt kee iltaja kuchh aur hai...
kaun jee saka hai...
zindagee apane mutaabik...
dil chaahata kuchh aur hai...
hota kuchh aur hai..

दिखाई कम दिया करते हैं, 
बुनियाद के पत्थर...
ज़मीं में जो दब गये, 
इमारत उन्हीं पे क़ायम है..

dikhaee kam diya karate hain,
buniyaad ke patthar...
zameen mein jo dab gaye,
imaarat unheen pe qaayam hai..

लहजे में बदजुबानी 
चेहरे पर नकाब लिए फिरते है, 
जिनके खुद के बहीखाते बिगड़े है 
वो मेरा हिसाब लिए फिरते हैं।

lahaje mein badajubaanee
chehare par nakaab lie phirate hai,
jinake khud ke baheekhaate bigade hai
vo mera hisaab lie phirate hain.

महफ़िल में चल रही थी
हमारे कत्ल की तैयारी
हम वहां पहुँचे तो बोले
बहुत लंबी उम्र है तुम्हारी..!

mahafil mein chal rahee thee
hamaare katl kee taiyaaree
ham vahaan pahunche to bole
bahut lambee umr hai tumhaaree..!

अभी अभी एक ख़याल आया 
जब भी कोई लड़की अपने मुँह में पिन दबाके 
जब उससे बाल बाँधती हें ना तब तब 
मेरा दिल उसपे आ जाता हें।

abhee abhee ek khayaal aaya
jab bhee koee ladakee apane munh mein pin dabaake
jab usase baal baandhatee hen na tab tab
mera dil usape aa jaata hen.


Rahat indori shayri


हर ज़ख्म किसी ठोकर की मेहरबानी है,
मेरी ज़िन्दगी की बस यही एक कहानी है,
मिटा देते सनम तेरे हर दर्द को सीने से,
पर ये दर्द ही तो तेरी आखिरी निशानी है।
har zakhm kisee thokar kee meharabaanee hai,
meree zindagee kee bas yahee ek kahaanee hai,
mita dete sanam tere har dard ko seene se,
par ye dard hee to teree aakhiree nishaanee hai.

कायनात भी क्या गुल खिला गयी
नसीब में था जिस से बिछड़ना उस से मिला गयी
हो जाती है हर रात के बाद सुबह 
पर वो मेरी रात को भी सुबह बना गयी।

kaayanaat bhee kya gul khila gayee
naseeb mein tha jis se bichhadana us se mila gayee
ho jaatee hai har raat ke baad subah
par vo meree raat ko bhee subah bana gayee.

राहें अलग पर मंजिल एक थी।
आकांक्षा अलग पर स्थिति एक थी।
कहीं सपनेे तो कहीं दरिये थे।
आगे बढ़ने के कम जरिये थे।

raahen alag par manjil ek thee
aakaanksha alag par sthiti ek thee.
kaheen sapanee to kaheen dariye the.
aage badhane ke kam jariye the.

हम यहाँ तेरे दीदार को तड़पे,
तू वहाँ किसी के प्यार में तड़पे।
जाने अनजानेे समय फिर फेर लेने लगा,
कुछ तू तो कुछ मैं अब बदलने लगा।

ham yahaan tere deedaar ko tadape,
too vahaan kisee ke pyaar mein tadape.
jaane anajaanee samay phir pher lene laga,
kuchh too to kuchh main ab badalane laga.

तडप वो हवा में आ फिर आकर घुल चुकी थी,
मगर अब तुझे पाने की लालसा मन से धुल चुकी थी।
अब मैं तुझे नहीं, समय को पाना चाहता था,
समय को पीछे छोड़ उससे आगे जाना चाहता था।
tadap vo hava mein aa phir aakar ghul chukee thee,
magar ab tujhe paane kee laalasa man se dhul chukee thee.
ab main tujhe nahin, samay ko paana chaahata tha,
samay ko peechhe chhod usase aage jaana chaahata tha.

आज परिणाम सबके सामने है,
मेरे हाथों में एक मखमली हाथ है।
जिसे बड़े-बड़े न पा सके,
मैं उसके और वो समय मेरे साथ है।

aaj parinaam sabake saamane hai,
mere haathon mein ek makhamalee haath hai.
jise bade-bade na pa sake
main usake aur vo samay mere saath hai.

क्या फर्क है ?
... दोस्ती और मोहब्बत में !
....रहते तो दोनो दिल में ही है !
लेकिन,,....फर्क बस इतना है...
बरसो बाद ....मिलने पर....

kya phark hai ?
... dostee aur mohabbat mein !
....rahate to dono dil mein hee hai !
lekin,,....phark bas itana hai...
baraso baad ....milane par....

दर्द होगा, बेचैनी होगी, 
कसक होगी, बेक़रारी होगी, 
अगर इश्क़ करते हो तो.... 
आपको भी ये बीमारी होगी!

dard hoga, bechainee hogee,
kasak hogee, beqaraaree hogee,
agar ishq karate ho to....
aapako bhee ye beemaaree hogee!

खुद को समेट के, 
खुद में सिमट जाते हैं हम...
एक याद उसकी आती है....
फिर से बिखर जाते है हम.....

khud ko samet ke,
khud mein simat jaate hain ham...
ek yaad usakee aatee hai....
phir se bikhar jaate hai ham.....

Post a comment

0 Comments