Facebook

Heart touching shayari in Hindi, (दिल को छूने वाली शायरी हिंदी में)

आज Heart touching shayari in hindi  के जरिए विभिन्न प्रकार के शायरी,गजल  लेकर आया हूं कोई ना कोई व्यक्ति कहां रिश्ता  पर धोखा होने से  दिल बहुत ही बिखर जाता है दिल रो रहा होती है ।

तो मन शांत करने के लिए दिल को काबू में लेने के लिए अपना दिल की बात शायरी के जरिए एक दूसरे को बताने के लिए लिख के बोल के वाचन करके बता देती है । 

अपना दिल थोड़ा सा हल्के हो जाते हैं जब अपना दिल का बात दूसरे को बता सके ऐसा ही विभिन्न प्रकार के शायरियां मौजूद हैं, इमोशनल टाइप का गजल कविता भी मौजूद है ।

https://www.nepalishayari.com/2020/03/new-love-and-friendship-hindi-breakup.html
Dard bhari shayari

यादें तुम्हारी- (Yaaden Tumhaaree)


         रात्रि थी अंधियारी, यादें आ रही थीं तुम्हारी
रात तो यूं बीती कि जैसे नींद खो गई हमारी
तुमसे की क्या मुहब्बत झपकती नही पलक हमारी
ऐ तुम्हारी कैसी अदा है कि हो गई इश्क की बीमारी

raatri thee andhiyaaree, yaaden aa rahee theen tumhaaree
raat to yoon beetee ki jaise neend kho gaee hamaaree
tumase kee kya muhabbat jhapakatee nahee palak hamaaree
ai tumhaaree kaisee ada hai ki ho gaee ishk kee beemaaree


हजारों की भीड़ में कुछ अलग थी मुस्कान तुम्हारी
एकदम नजरें क्या मिलीं कि कद्रदान हो गईं तुम्हारी
अजब नशा हो मयकशी में होती हैं महफिलें तुम्हारी
हुस्न के हुनर को दिखाती है बलखाती उमर तुम्हारी

hajaaron kee bheed mein kuchh alag thee muskaan tumhaaree
ekadam najaren kya mileen ki kadradaan ho gaeen tumhaaree
ajab nasha ho mayakashee mein hotee hain mahaphilen tumhaaree
husn ke hunar ko dikhaatee hai balakhaatee umar tumhaaree


ताजुब तो होता है जब होते हैं मियां नजाकत में तुम्हारी
रात की बात गई, दिल से गई नहीं अभी खुमारी तुम्हारी
यूं तो अक्सर ही खास होती हैं रोज मयखाने शाम तुम्हारी
शहर की मशहूर हस्तियां मर मिटती हैं एक आह पर तुम्हारी

taajub to hota hai jab hote hain miyaan najaakat mein tumhaaree
raat kee baat gaee, dil se gaee nahin abhee khumaaree tumhaaree
yoon to aksar hee khaas hotee hain roj mayakhaane shaam tumhaaree
shahar kee mashahoor hastiyaan mar mitatee hain ek aah par tumhaaree


दिल तो ऐसे पिघलता है जैसे धीमे-धीमे पिघलती हैं मोमबत्तियां हमारी
थिरक थिरक थके पांव और तू आंसुओं में हुस्न लुटाती रह गई उम्र सारी

dil to aise pighalata hai jaise dheeme-dheeme pighalatee hain momabattiyaan hamaaree
thirak thirak thake paanv aur too aansuon mein husn lutaatee rah gaee umr saaree


आपको हर "वक्त" पता होता है
आपके पास कितनी "दौलत" है
लेकिन आप कितनी भी "दौलत"
खर्च करके यह नही जान सकते
कि आपके पास कितना ''वक्त" है

aapako har "vakt" pata hota hai
aapake paas kitanee "daulat" hai
lekin aap kitanee bhee "daulat"
kharch karake yah nahee jaan sakate
ki aapake paas kitana vakt" hai


तुम जो दगा दो , तो भी सब सह जाऊ मैं
तुम जो कोई दवा दी , चुप - चाप पी जाऊ मैं
मेरे प्रेम रुपी शीतल जल का बहता प्रमाण ही
तुम जो कही तो उसी जल में डूब जाऊँ मैं

tum jo daga do , to bhee sab sah jaoo main
tum jo koee dava dee , chup - chaap pee jaoo main
mere prem rupee sheetal jal ka bahata pramaan hee
tum jo kahee to usee jal mein doob jaoon main


पक्के घागे है ये मेरे अरमानों के जो तुम
कहो तो इसका स्थिर हार सजाऊँ मैं
जिस तरह आसमाँ को मोहब्बत है इस धरा से
बिल्कुल उसी तरह हर पल तेरी नजरों में खो जाऊँ मैं ।

pakke ghaage hai ye mere aramaanon ke jo tum
kaho to isaka sthir haar sajaoon main
jis tarah aasamaan ko mohabbat hai is dhara se
bilkul usee tarah har pal teree najaron mein kho jaoon main .


कर के दीदार तेरे हुस्न का, हम तो संवरने लगे हैं..
कैसे करू इज़हारे-इश्क मैं, खद में ही सिमटने लगे हैं.
करते है इशारे ऐसे निगाहों से,ख्वाब आँखों मे सजने लगे हैं...
ऐ दिल जरा सम्भल जा,वो धड़कन में…समाने लगे हैं...

kar ke deedaar tere husn ka, ham to sanvarane lage hain..
kaise karoo izahaare-ishk main, khad mein hee simatane lage hain.
karate hai ishaare aise nigaahon se,khvaab aankhon me sajane lage hain...
ai dil jara sambhal ja,vo dhadakan mein…samaane lage hain...


धीरे धीरे उम्र कट जाती हैं!
जीवन यादों की पुस्तक बन जाती है!
कभी किसी की याद बहुत तड़पाती है!
कभी यादों के सहारे से जिंदगी गुजर जाती है!

dheere dheere umr kat jaatee hain!
jeevan yaadon kee pustak ban jaatee hai!
kabhee kisee kee yaad bahut tadapaatee hai!
kabhee yaadon ke sahaare se jindagee gujar jaatee hai!


"किनारो पे सागर के खजाने नहीं आते!
"फिर जीवन में दोस्त पुराने नहीं आते!
"जी लो इन पलों को हंस के दोस्तो
"फिर लौट के दोस्ती के जमाने नहीं आते!!

"kinaaro pe saagar ke khajaane nahin aate!
"phir jeevan mein dost puraane nahin aate!
"jee lo in palon ko hans ke dosto
"phir laut ke dostee ke jamaane nahin aate!!


   गजल - (Gazal)


 क्या करूं तुझपे प्यार आये तो
दिल ये तुझ पर ही यार आये तो।
दिल का वीरान है चमन कब से
इस चमन में बहार आये तो।

kya karoon tujhape pyaar aaye to
dil ye tujh par hee yaar aaye to.
dil ka veeraan hai chaman kab se
is chaman mein bahaar aaye to.


जुस्तजू मेरी सिर्फ़ हो तुम ही
 पर तुम्हें एतबार आये तो।
कब से आवाज़ दे रहा हूं मैं
सुन के बिछड़ा वो यार आये तो।

justajoo meree sirf ho tum hee
 par tumhen etabaar aaye to.
kab se aavaaz de raha hoon main
sun ke bichhada vo yaar aaye to.


सौंप दूं ख़ुद को मैं ख़ुशी से पर
बन कोई ज़िम्मेदार आये तो।
गीत तारीफ़ में रचूं मैं भी
करके दिलबर सिंगार आये तो।

saump doon khud ko main khushee se par
ban koee zimmedaar aaye to.
geet taareef mein rachoon main bhee
karake dilabar singaar aaye to.


है नजर को शिकायत अब उन
निगहो से ...!!
हो रहा बेजार अब दिल
उन बहरों से ..!!
जो झुकाकर पलके दिल ले
लिया करते थे ..!!
मचालता नहीं अब दिल
उन इशारों से ..!!!

hai najar ko shikaayat ab un
nigaho se ...!!
ho raha bejaar ab dil
un baharon se ..!!
jo jhukaakar palake dil le
liya karate the ..!!
machaalata nahin ab dil
un ishaaron se ..!!!

     जिसकी सोच में आत्मविश्वास की महक है
जिसके इरादों में हौसले की मिठास है...
और  जिसकी नीयत में सच्चाई का स्वाद है
उसकी पूरी जिन्दगी महकता हुआ "गुलाब" है।

jisakee soch mein aatmavishvaas kee mahak hai
jisake iraadon mein hausale kee mithaas hai...
aur  jisakee neeyat mein sachchaee ka svaad hai
usakee pooree jindagee mahakata hua "gulaab" hai.


कभी नहीं टूटते वो रिश्तें,
जहाँ दो लोग जरुरत से नहीं
बल्कि दिल से जुड़े हो !!
फूल कभी अंगारे देखे।
हमने सुख-दुःख सारे देखे।
मौज,भंवर और धारे देखे।
कश्ती और किनारे देखे।
तितली,खुशबू,छाँव,कली,गुल ,
कितने रूप तुम्हारे देखे।
कौन है जिसने एक समय में ,
सूरज,चाँद ,सितारे देखे।
ज़िंदा हैं जो तेज धूप में ,
ऐसे भी गुब्बारे देखे।
उल्फत के इस खेल में हमने ,
जीती बाज़ी हारे देखे।

kabhee nahin tootate vo rishten,
jahaan do log jarurat se nahin
balki dil se jude ho !!
phool kabhee angaare dekhe.
hamane sukh-duhkh saare dekhe.
mauj,bhanvar aur dhaare dekhe.
kashtee aur kinaare dekhe.
titalee,khushaboo,chhaanv,kalee,gul ,
kitane roop tumhaare dekhe.
kaun hai jisane ek samay mein ,
sooraj,chaand ,sitaare dekhe.
zinda hain jo tej dhoop mein ,
aise bhee gubbaare dekhe.
ulphat ke is khel mein hamane ,
jeetee baazee haare dekhe.


अपनी जज़्बातों को खुद में समेटकर
उसके जज़्बातों को समझना ,
आसान होता है क्या किसी की
आँखों के आँसू को अपने आँखों की राह दिखाना !!
रौंदा गया हो , या चाहें ठुकरा दिया हो ...
हर पल बस उसके लिए उसके करीब होना ;
आसान होता है क्या उसका साया बनकर
उसे ही ना दिख पाना !!
बिना किसी चाहत के किसी को बेतहाशा चाहना ,
आसान होता है क्या इश्क निभाना !!

apanee jazbaaton ko khud mein sametakar
usake jazbaaton ko samajhana ,
aasaan hota hai kya kisee kee
aankhon ke aansoo ko apane aankhon kee raah dikhaana !!
raunda gaya ho , ya chaahen thukara diya ho ...
har pal bas usake lie usake kareeb hona ;
aasaan hota hai kya usaka saaya banakar
use hee na dikh paana !!
bina kisee chaahat ke kisee ko betahaasha chaahana ,
aasaan hota hai kya ishk nibhaana !!


अकेलापन' इस संसार में
 सबसे बड़ी सज़ा है.!
    और 'एकांत'
       सबसे बड़ा वरदान.
ये दो समानार्थी दिखने वाले
                 शब्दों के अर्थ में
        आकाश पाताल का अंतर है।
अकेलेपन में छटपटाहट है,
               एकांत में आराम.!
अकेलेपन में घबराहट है,
                 एकांत में शांति।
जब तक हमारी नज़र
                 बाहरकी ओर है
                   तब तक हम
        अकेलापन महसूस करते हैं.!
जैसे ही नज़र
              भीतर की ओर मुड़ी,
                     तो एकांत
            अनुभव होने लगता है।
ये जीवन और कुछ नहीं,
  वस्तुतः
अकेलेपन से एकांत की ओर
  एक यात्रा ही है.!
ऐसी यात्रा जिसमें,
रास्ता भी हम हैं,
राही भी हम हैं और
मंज़िल भी हम ही हैं.!!

akelaapan is sansaar mein
 sabase badee saza hai.!
    aur ekaant
       sabase bada varadaan.
ye do samaanaarthee dikhane vaale
                 shabdon ke arth mein
        aakaash paataal ka antar hai.
akelepan mein chhatapataahat hai,
               ekaant mein aaraam.!
akelepan mein ghabaraahat hai,
                 ekaant mein shaanti.
jab tak hamaaree nazar
                 baaharakee or hai
                   tab tak ham
akelaapan mahasoos karate hain.!
jaise hee nazar
              bheetar kee or mudee,
                     to ekaant
            anubhav hone lagata hai.
ye jeevan aur kuchh nahin,
  vastutah
akelepan se ekaant kee or
  ek yaatra hee hai.!
aisee yaatra jisamen,
raasta bhee ham hain,
raahee bhee ham hain aur
manzil bhee ham hee hain.!!


https://www.nepalishayari.com/2020/04/new-love-motivational-and-heart.html
Sad shayari photo


 प्रेम..(Prem)


प्रेम..शब्द नहीं घटना नहीं
दिखता नहीं
कहा भी नहीं जाता
सिर्फ़ महसूस होता है
दिल की ग़हराईयों में
एकदम ग़हरे
जिसमें डूबना होता है
फ़िर कुछ होश ही नहीं रहता
एक ऐसा आनन्द
जिसका वर्णन नहीं किया जा सकता
जो शब्दों में नहीं समाता
सिर्फ़ महसूस किया जा सकता है.
पर मंजूर यह है कि मोहब्बत बेशर्त हो !
जिसमें शब्द न हो
अपेक्षा न हो
जो कहा नहीं सिर्फ किया जाये !
आत्मा से
दिल की ग़हराईयों से
जो निरन्तर हो
जिसमे तड़प हो,
समर्पण हो
प्यास हो..

prem..shabd nahin ghatana nahin
dikhata nahin
kaha bhee nahin jaata
sirf mahasoos hota hai
dil kee gaharaeeyon mein
ekadam gahare
jisamen doobana hota hai
fir kuchh hosh hee nahin rahata
ek aisa aanand
jisaka varnan nahin kiya ja sakata
jo shabdon mein nahin samaata
sirf mahasoos kiya ja sakata hai.
par manjoor yah hai ki mohabbat beshart ho !
jisamen shabd na ho
apeksha na ho
jo kaha nahin sirph kiya jaaye !
aatma se
dil kee gaharaeeyon se
jo nirantar ho
jisame tadap ho,
samarpan ho
pyaas ho..


अकेला हूं, रहूं भी क्यों ना,
अपनी कमजोरियां बता दी उसे
अपनी मजबूतियां बता उसे
सब जानकर, अंदर तक पहचानकर
तोड़कर चली गई वो
जाए भी क्यों ना भला
गलती तो मैंने की, बुरी आदत लगा ली।।
अकेला हूं, रहूं भी क्यों ना,
आज कोई बोलने वाला नहीं है
आज कोई सुनने वाला नहीं हैं
कभी जान हुआ करते थे उसके
आज जानवर बना के चली गई वो
जाए भी क्यों ना भला
गलती तो मैंने की, बुरी आदत लगा ली।।

akela hoon, rahoon bhee kyon na,
apanee kamajoriyaan bata dee use
apanee majabootiyaan bata use
sab jaanakar, andar tak pahachaanakar
todakar chalee gaee vo
jae bhee kyon na bhala
galatee to mainne kee, buree aadat laga lee..
akela hoon, rahoon bhee kyon na,
aaj koee bolane vaala nahin hai
aaj koee sunane vaala nahin hain
kabhee jaan hua karate the usake
aaj jaanavar bana ke chalee gaee vo
jae bhee kyon na bhala
galatee to mainne kee, buree aadat laga lee


अगर किसी बच्चे को उपहार (गिफ्ट) न दिया जाये तो वह कुछ ही समय रोयेगा।
मगर संस्कार न दिए जाए तो वह जीवन भर रोयेगा
इसलिए जहाँ तक हो सके हमेशा सही परवारिश कीजिये..और साथ हमेशा अच्छा संस्कार दीजिये...
यही संस्कार आपके बुढ़ापे मे आपके औलाद रोटी खिलाएंगे ...

agar kisee bachche ko upahaar (gipht) na diya jaaye to vah kuchh hee samay royega.
magar sanskaar na die jae to vah jeevan bhar royega
isalie jahaan tak ho sake hamesha sahee paravaarish keejiye..aur saath hamesha achchha sanskaar deejiye...
yahee sanskaar aapake budhaape me aapake aulaad rotee khilaenge ...


अपने अपनों की चाहत में
ये दुनिया दीवानी है,
किसी आँख में हँसी घुली है,
किसी आँख में पानी है,
हमको जिससे प्यार हुआ
वो किसी और को चाह रही।
सबके किस्से अलग-अलग हैं,
सबकी अलग कहानी है।

apane apanon kee chaahat mein
ye duniya deevaanee hai,
kisee aankh mein hansee ghulee hai,
kisee aankh mein paanee hai,
hamako jisase pyaar hua
vo kisee aur ko chaah rahee.
sabake kisse alag-alag hain,
sabakee alag kahaanee hai.


वो कहते रहे...
कभी इंतज़ार मत करना।
में इजहार करू...
तो कभी ऐतबार मत करना।
उन्होंने ये भी कहा
कि उन्हें प्यार नही हमसे।
ओर ये भी कह गए
कि किसी ओर से प्यार मत करना।

vo kahate rahe...
kabhee intazaar mat karana.
mein ijahaar karoo...
to kabhee aitabaar mat karana.
unhonne ye bhee kaha
ki unhen pyaar nahee hamase.
or ye bhee kah gae
ki kisee or se pyaar mat karana.

रिश्तों में वैसा ही
संबंध होना चाहिए…जैसे
हाथ और आँख का होता है।
हाथ पर चोट लगती है,
  तो आँखों से आँसू निकलते हैं...
   और आँसू आने पर हाथ ही
उनको साफ करता है…!!

rishton mein vaisa hee
sambandh hona chaahie…jaise
haath aur aankh ka hota hai.
haath par chot lagatee hai,
  to aankhon se aansoo nikalate hain...
   aur aansoo aane par haath hee
unako saaph karata hai…!!


जो तुझे बिखरने पर समेट ले,
वो बाँहे बन जाऊँ !
जो तेरे रोने से तर हों,
वो आँखें बन जाऊँ!
और जिस पल तू जीने की
आस ही छोड़ दे,
ख़ुदा करे मैं उसी पल
तेरी साँसें बन जाऊँ...!!

jo tujhe bikharane par samet le,
vo baanhe ban jaoon !
jo tere rone se tar hon,
vo aankhen ban jaoon!
aur jis pal too jeene kee
aas hee chhod de,
khuda kare main usee pal
teree saansen ban jaoon...!!


पतझड़ हुए बिना पेड़ पर नए पत्ते नहीं  आते
ठीक उसी तरह परेशानी और कठिनाई
सहे बिना इंसान के अच्छे दिन नही आते
अमूल्य संबंधों की तुलना कभी धन से न करें।
 :क्योंकि: धन दो दिन काम आयेगा
जबकि संबंध उम्र भर काम आयेंगे

patajhad hue bina ped par nae patte nahin  aate
theek usee tarah pareshaanee aur kathinaee
sahe bina insaan ke achchhe din nahee aate
amooly sambandhon kee tulana kabhee dhan se na karen.
 :kyonki: dhan do din kaam aayega
jabaki sambandh umr bhar kaam aayenge


सिगरेट आधी ही खत्म हुई थी कि पापा आ गए !
कॉल पूरी इस लिए नही हुई कि तुम्हारी मम्मी आ गयी !
इश्क़ इसलिए नही पूरा हुआ कि तुम्हारी जिंदगी में हमसे बेहतर कोई आ गया !
सपने इसलिए नही पूरे हुए कि जिम्मेदारियां आ गयी !
मुलाक़ातें अधूरी छूट गयी क्योंकि सुबह हो गयी।

sigaret aadhee hee khatm huee thee ki paapa aa gae !
kol pooree is lie nahee huee ki tumhaaree mammee aa gayee !
ishq isalie nahee poora hua ki tumhaaree jindagee mein hamase behatar koee aa gaya !
sapane isalie nahee poore hue ki jimmedaariyaan aa gayee !
mulaaqaaten adhooree chhoot gayee kyonki subah ho gayee.


सब अधूरा ही रहा। सब कुछ।
हम भी अधूरे,तुम भी।
 ये सब भी ! हाँ हाँ !
ये जो पढ़ रहे हैं ये भी !
 इनके भी जीवन मे भी कुछ न कुछ अधूरा है !
पर इसी अधूरेपन का नाम जिंदगी है !
सब जिये जा रहे हैं ! क्योंकि जीना पड़ रहा !
वो एक शेर है ना कैसे...
मोहब्बत बुरी है ,बुरी है मोहब्बत
कहे जा रहे हैं ,किये जा रहे हैं'

sab adhoora hee raha. sab kuchh.
ham bhee adhoore,tum bhee.
 ye sab bhee ! haan haan !
ye jo padh rahe hain ye bhee !
 inake bhee jeevan me bhee kuchh na kuchh adhoora hai !
par isee adhoorepan ka naam jindagee hai !
sab jiye ja rahe hain ! kyonki jeena pad raha !
vo ek sher hai na kaise...
mohabbat buree hai ,buree hai mohabbat
kahe ja rahe hain ,kiye ja rahe hain


कुछ ख़ासियत भी इसमें मेहबूब वाली है ,
दिल से चाहो तो इस से भी वफ़ा मिलने वाली है
इबादत सजदे रोज किया करो इसके तो
ये मोहब्बत भी फिर रंग लाने वाली है
जिसने दगा देना चाहा , खुद बेसहारा हो गया
समय भी यारो , मेहबूब सा हो गया

kuchh khaasiyat bhee isamen mehaboob vaalee hai ,
dil se chaaho to is se bhee vafa milane vaalee hai
ibaadat sajade roj kiya karo isake to
ye mohabbat bhee phir rang laane vaalee hai
jisane daga dena chaaha , khud besahaara ho gaya
samay bhee yaaro , mehaboob sa ho gaya


कभी सोचा करते थे हम ....,
प्यार में ये याद वाद नही आती !!
उसे दिल मे जगह देकर उसे
अपने करीब पाना ही प्यार होता है!!
आज दूर है , तो पल पल को
किसीकी  कमी महसूस हो रही है !!

kabhee socha karate the ham ....,
pyaar mein ye yaad vaad nahee aatee !!
use dil me jagah dekar use
apane kareeb paana hee pyaar hota hai!!
aaj door hai , to pal pal ko
kiseekee  kamee mahasoos ho rahee hai !!


है करीब तो इज्जत रखलो , न होने पर सवाल बहोत करोगे
वक़्त रहते रिश्ते बनालो , वक़्त से बहोत रिश्ते है टूटे
एहमियत इसकी खोने के बाद ही तो है पता चलती
बचपन की यादें सिर्फ मुझे ही तो उदास नही करती
याद करते बैठोगे कल को , वही जो पल गुजर गया
समय भी यारो , मेहबूब सा हो गया

hai kareeb to ijjat rakhalo , na hone par savaal bahot karoge
vaqt rahate rishte banaalo , vaqt se bahot rishte hai toote
ehamiyat isakee khone ke baad hee to hai pata chalatee
bachapan kee yaaden sirph mujhe hee to udaas nahee karatee
yaad karate baithoge kal ko , vahee jo pal gujar gaya
samay bhee yaaro , mehaboob sa ho gaya


हाँ मोहब्बत भी ऐसी जो , अधूरी हो रही है
मेरा होकर भी मेरा नही ऐसे हालत जो हो चुकी है
समय को बाँधना भी तो मेरे हाथों में नही
प्यार की तरह बस एक उम्मीद ही तो रहती है
मोहब्बत में अपनी शिद्दत से ही हूँ निभा रहा
वक़्त का इंतजार नही , वक़्त को हूँ जी रहा
मेरी खुशियो मेरी गमो में मेरा हमसफ़र हो गया
हा समय भी आज कल मेहबूब सा हो गया

haan mohabbat bhee aisee jo , adhooree ho rahee hai
mera hokar bhee mera nahee aise haalat jo ho chukee hai
samay ko baandhana bhee to mere haathon mein nahee
pyaar kee tarah bas ek ummeed hee to rahatee hai
mohabbat mein apanee shiddat se hee hoon nibha raha
vaqt ka intajaar nahee , vaqt ko hoon jee raha
meree khushiyo meree gamo mein mera hamasafar ho gaya
ha samay bhee aaj kal mehaboob sa ho gaya


जहाँ मौजूद हु मैं  ,
 वहाँ से लापता है तू क्यों !!
जहाँ चलते है मेरे नाम के चर्चे ,
    वहाँ खामोश है तू क्यों !!
तमाम इज़हार किये थे दिल ने ,
   खुमारी दिखाई तूने क्यों !!
आज लापता हो गए है तेरी महफ़िल से हम ,
    तो तेरे लब पर ये शिकायत क्यों !!

jahaan maujood hu main  ,
 vahaan se laapata hai too kyon !!
jahaan chalate hai mere naam ke charche ,
    vahaan khaamosh hai too kyon !!
tamaam izahaar kiye the dil ne ,
   khumaaree dikhaee toone kyon !!
aaj laapata ho gae hai teree mahafil se ham ,
    to tere lab par ye shikaayat kyon !!


सपनो की उड़ान
   धरती से ही भरनी होगी,
      ये मेहनत आज नही तो कल
       करनी ही होगी
    रातो को सवेरा,और सवेरे को रात
बनाना ही होगा
जहा पहुचने का सोच रहे हो तुम
उसका रास्ता खुद तुम्हे बनाना ही होगा।

sapano kee udaan
   dharatee se hee bharanee hogee,
      ye mehanat aaj nahee to kal
       karanee hee hogee
    raato ko savera,aur savere ko raat
banaana hee hoga
jaha pahuchane ka soch rahe ho tum
usaka raasta khud tumhe banaana hee hoga.



बढते  चलिए



अँधेरो  में  ज्यादा  दम  नहीं  होता ,
निगाहों  का  उजाला  भी
दियों  से  कम  नहीं  होता !!
दुनिया के लड़ाई झगड़े से जीतना कोई बड़ी
बात नहीं है, आज नहीं तो कल वह हर कोई
जीत सकता है।
लेकिन जब आप अपनी जिंदगी की परेशानियों
से जीतना सीख गऐ, तो समझ लेना कि आप ने सफलता प्राप्त कर ली है।
याद रखें कोई भी काम तब तक ही मुश्किल
होता है जब तक वह पूरा नहीं हुआ होता।
जिंदगी में परेशानियों से कभी दुखी मत होना।
क्योंकि परेशानियां सबको आती है।
लेकिन जब हम उन परेशानियों से सफलता
प्राप्त कर लेते हैं तो ऐसे लगता है कि वह
परेशानी कभी थी ही नहीं।
दुनिया  में  दो  ही  सच्चे  ज्योतिषी  हैं
मन  की  बात  समझने  वाली  माँ और
भविष्य  को  पहचानने  वाला  पिता !!
आईये खुद की नुमाईश ज़रा कम करें
जहाँ भी "मैं" लिखा है, उसे "हम" करें
चील की ऊँची उड़ान देखकर चिड़िया
कभी उदास नही होती
वो अपने आस्तित्व में मस्त रहती है
मगर इंसान, इंसान की ऊँची उड़ान देखकर
बहुत जल्दी चिंता में आ जाते हैं
तुलना से बचें और खुश रहें।

andhero  mein  jyaada  dam  nahin  hota ,
nigaahon  ka  ujaala  bhee
diyon  se  kam  nahin  hota !!
duniya ke ladaee jhagade se jeetana koee badee
baat nahin hai, aaj nahin to kal vah har koee
jeet sakata hai.
lekin jab aap apanee jindagee kee pareshaaniyon
se jeetana seekh gaai, to samajh lena ki aap ne saphalata praapt kar lee hai.
yaad rakhen koee bhee kaam tab tak hee mushkil
hota hai jab tak vah poora nahin hua hota.
jindagee mein pareshaaniyon se kabhee dukhee mat hona.
kyonki pareshaaniyaan sabako aatee hai.
lekin jab ham un pareshaaniyon se saphalata
praapt kar lete hain to aise lagata hai ki vah
pareshaanee kabhee thee hee nahin.
duniya  mein  do  hee  sachche  jyotishee  hain
man  kee  baat  samajhane  vaalee  maan aur
bhavishy  ko  pahachaanane  vaala  pita !!
aaeeye khud kee numaeesh zara kam karen
jahaan bhee "main" likha hai, use "ham" karen
cheel kee oonchee udaan dekhakar chidiya
kabhee udaas nahee hotee
vo apane aastitv mein mast rahatee hai
magar insaan, insaan kee oonchee udaan dekhakar
bahut jaldee chinta mein aa jaate hain
tulana se bachen aur khush rahen.

Post a comment

0 Comments