Facebook

Gazal, Antarwasnna poem shayari in Hindi - हिंदी में गजल, अंतर्वासना कविता शायरी

 आज हम छोटी शायरी और कविता Poem shayari in Hindi लेकर आया हूं । अच्छा लगे तो जरूर बताना हम नेपाली शायरी के तरफ से छोटी मोटी कविता गजल शायरी रचना करने की कोशिश की है

हमको अपना मत देकर अच्छा लगा हो या बुरा लगे कोई भी आपका दिल पर आता है कृपा करके कैसे करने का कैसे अच्छा बनाने का किस प्रकार के शायरी कविताएं आपको पसंद है

आपकी दिल का बात बताना मत भूलना हम पूरा कोशिश करेंगे आप लोगों के जो चाहे उससे प्रकार के शायरी कविताएं गजल लेकर आने की कोशिश पूर्ण रूप से करेगा

https://www.nepalishayari.com/2020/04/new-best-motivational-heart-touching.html
Shayari image


समझ रहे हो न तुम


तुम बिन मैं एक बूँद हूँ,
तुम मिलो तो सागर बन जाऊँ...
तुम बिन मैं एक धागा हूँ,
तुम मिलो तो चादर बन जाऊँ...
तुम बिन मैं एक कागज हूँ,
तुम मिलो तो किताब बन जाऊँ...
तुम बिन मैं केवल शब्द हूँ,
तुम मिलो तो प्रेमग्रंथ बन जाऊँ...
समझ रहे हो न तुम.....

tum bin main ek boond hoon,
tum milo to saagar ban jaoon...
tum bin main ek dhaaga hoon,
tum milo to chaadar ban jaoon...
tum bin main ek kaagaj hoon,
tum milo to kitaab ban jaoon...
tum bin main keval shabd hoon,
tum milo to premagranth ban jaoon...
samajh rahe ho na tum....


हो गये


शरमाई तेरी नज़रें,,,और बयां हो गये,,,,
लफ़्ज़ भी क्या बोलते,,,बेजुबां हो गये,,,,‼️
तमसे मिलने से पहले थे हम आग,,,
आज़ कल बस धुंआ-धुआं हो गये,,,‼️
फ़ासले कुछ ऐसे बड़ा दिए वक़्त ने,,,
तम धरती तो हम,,आसमां हो गये,,,,‼️
हमारी उम्र नही थी,,,"इश्क़"करने की,,,
बस देखा एक नज़र तुझे,,,और जवां हो गए,,

sharamaee teree nazaren,,,aur bayaan ho gaye,,,,
lafz bhee kya bolate,,,bejubaan ho gaye,,,,‼
tamase milane se pahale the ham aag,,,
aaz kal bas dhuna-dhuaan ho gaye,,,‼
faasale kuchh aise bada die vaqt ne,,,
tam dharatee to ham,,aasamaan ho gaye,,,,‼
hamaaree umr nahee thee,,,"ishq"karane kee,,,
bas dekha ek nazar tujhe,,,aur javaan ho gae,,

मुस्कराहट


एक कमाल की पहेली है,
जितना बताती है,
उससे कहीं ज्यादा छुपाती है।
झूठी उम्र लेके घूम रहे है लोग
बनावटी खुशिया साथ रख कर जी रहे है
रुख पर परदा डाल खुशनुमा जिंदगी का
रूह को कबका तबाह कर चुके है !
मौत से डर रहे है जब कि ज़िन्दगी इन्हें डरा रही है
करीब उन्ही को रखते है जिनसे बद्दुआ आ रही है
बोझ बनाकर खुद को खुद ही का ,
औरो पर इल्जाम लगाते है
आज के जमाने के लोग ,
जीतेजी अधमरे से रहते है !
हालातो को दोष दे अपनी गलतियों को छुपाते है
दौड़ लगी पड़ी जैसे जमाने से इनकी
ऐसा सबको दिखाते है
ना समझ कर दुनिया को समझदारी का ढोंग करते है
जीत कर भी सबकुछ हारे हुए खुद को पाते है !
इंसान होकर खुदको कमजोर पाते है ;
खुद में खुदा होने के बावजूद
किसी और कि मदत का इन्तेजार करते है !
बदलते जमाने मे खुदको बदलने की बात करते है ;
हारी हुई यादों को याद कर अपने आज को कोसते है !
तक़दीर इनकी ये खुद अपने हाथ से उलझाते है
ज़िन्दगी जीकर भी , रोज मरते रहते है !
झूठी उम्र लेके घूम रहे है लोग
बनावटी खुशिया साथ रख कर जी रहे है
रुख पर परदा डाल खुशनुमा जिंदगी का
रूह को कबका तबाह कर चुके है !
मौत से डर रहे है जब कि ज़िन्दगी इन्हें डरा रही है
करीब उन्ही को रखते है जिनसे बद्दुआ आ रही है
बोझ बनाकर खुद को खुद ही का ,
औरो पर इल्जाम लगाते है
आज के जमाने के लोग ,
जीतेजी अधमरे से रहते है !
हालातो को दोष दे अपनी गलतियों को छुपाते है
दौड़ लगी पड़ी जैसे जमाने से इनकी
ऐसा सबको दिखाते है
ना समझ कर दुनिया को समझदारी का ढोंग करते है
जीत कर भी सबकुछ हारे हुए खुद को पाते है !
इंसान होकर खुदको कमजोर पाते है ;
खुद में खुदा होने के बावजूद
किसी और कि मदत का इन्तेजार करते है !
बदलते जमाने मे खुदको बदलने की बात करते है ;
हारी हुई यादों को याद कर अपने आज को कोसते है !
तक़दीर इनकी ये खुद अपने हाथ से उलझाते है
ज़िन्दगी जीकर भी , रोज मरते रहते है !

दिल के बहलाने का सामान न समझा जाये
हमको अब इतना भी आसान न समझा जाये !
हम भी दुनिया की तरह जीने का हक़ मॉंगती हैं,
इसको ग़द्दारी का ऐलान न समझा जाये !!
अब तो बेटे भी चले जाते हैं होकर रुख़्सत,
सिर्फ़ बेटी को ही मेहमान न समझा जाये !!
कल हम भी बारिश मे छपाके लगाया करते थे,
आज इसी बारिश मे कीटाणु देखना सीख गए,
कल बेफिक्र थे कि माँ क्या कहेगी,
आज बारिश से मोबाइल बचाना सीख गए,
कल दुआ करते थे कि बरसे बेहिसाब तो छुट्टी हो जाए,
अब डरते हैं कि रुके ये बारिश कही ड्यूटी न छूट जाए,
किसने कहा नहीं आती वो बचपन वाली बारिश,
हम ख़ुद अब काग़ज़ की नाव बनाना भूल गए,
बारिश तो अब भी बारिश है,
हम अपना ज़माना भूल गए…!!!

ek kamaal kee pahelee hai,
jitana bataatee hai,
usase kaheen jyaada chhupaatee hai.
jhoothee umr leke ghoom rahe hai log
banaavatee khushiya saath rakh kar jee rahe hai
rukh par parada daal khushanuma jindagee ka
rooh ko kabaka tabaah kar chuke hai !
maut se dar rahe hai jab ki zindagee inhen dara rahee hai
kareeb unhee ko rakhate hai jinase baddua aa rahee hai
bojh banaakar khud ko khud hee ka ,
auro par iljaam lagaate hai
aaj ke jamaane ke log ,
jeetejee adhamare se rahate hai
haalaato ko dosh de apanee galatiyon ko chhupaate hai
daud lagee padee jaise jamaane se inakee
aisa sabako dikhaate hai
na samajh kar duniya ko samajhadaaree ka dhong karate hai
jeet kar bhee sabakuchh haare hue khud ko paate hai !
insaan hokar khudako kamajor paate hai ;
khud mein khuda hone ke baavajood
kisee aur ki madat ka intejaar karate hai !
badalate jamaane me khudako badalane kee baat karate hai ;
haaree huee yaadon ko yaad kar apane aaj ko kosate hai !
taqadeer inakee ye khud apane haath se ulajhaate hai
zindagee jeekar bhee , roj marate rahate hai !
jhoothee umr leke ghoom rahe hai log
banaavatee khushiya saath rakh kar jee rahe hai
rukh par parada daal khushanuma jindagee ka
rooh ko kabaka tabaah kar chuke hai !
maut se dar rahe hai jab ki zindagee inhen dara rahee hai
kareeb unhee ko rakhate hai jinase baddua aa rahee hai
bojh banaakar khud ko khud hee ka
auro par iljaam lagaate hai
aaj ke jamaane ke log ,
jeetejee adhamare se rahate hai !
haalaato ko dosh de apanee galatiyon ko chhupaate hai
daud lagee padee jaise jamaane se inakee
aisa sabako dikhaate hai
na samajh kar duniya ko samajhadaaree ka dhong karate hai
jeet kar bhee sabakuchh haare hue khud ko paate hai !
insaan hokar khudako kamajor paate hai ;
khud mein khuda hone ke baavajood
kisee aur ki madat ka intejaar karate hai !
badalate jamaane me khudako badalane kee baat karate hai ;
haaree huee yaadon ko yaad kar apane aaj ko kosate hai !
taqadeer inakee ye khud apane haath se ulajhaate hai
zindagee jeekar bhee , roj marate rahate hai !



dil ke bahalaane ka saamaan na samajha jaaye
hamako ab itana bhee aasaan na samajha jaaye !
ham bhee duniya kee tarah jeene ka haq mongatee hain,
isako gaddaaree ka ailaan na samajha jaaye !!
ab to bete bhee chale jaate hain hokar rukhsat,
sirf betee ko hee mehamaan na samajha jaaye !!
kal ham bhee baarish me chhapaake lagaaya karate the,
aaj isee baarish me keetaanu dekhana seekh gae,
kal bephikr the ki maan kya kahegee,
aaj baarish se mobail bachaana seekh gae,
kal dua karate the ki barase behisaab to chhuttee ho jae,
ab darate hain ki ruke ye baarish kahee dyootee na chhoot jae,
kisane kaha nahin aatee vo bachapan vaalee baarish,
ham khud ab kaagaz kee naav banaana bhool gae,
baarish to ab bhee baarish hai,
ham apana zamaana bhool gae…!!!


https://www.nepalishayari.com/2020/03/dard-bhari-shayari-heart-touching.html
shayari photo


लड़का लड़की दोनों इश्क एक सा निभाते है !
पूरी वफ़ा का ! लड़का फ्यूचर के बारे में सोचकर परेशान होता है !
हाँ यू समझलो लास्ट ईयर में है !! अपने exams को लेके ,
 नई लगने वाली जॉब को लेके !
यु तो कोई पिता अपनी लड़की बेरोजगार को देगा नही !
तो लड़का आज कल गुमसुम से रहता है ,
खामोश रहता है !
लड़की को उसकी खामोशी खलती है ,
वो कुछ बताता भी नही है !
पर इश्क से उसके दिल को वो पढ़ कर उसकी खामोशी को तोड़ना चाहती है !!
उसी लड़की के कुछ अल्फाज !
 लिखा मेने ही है ,
कोई गलती हुई तो माफी !
इसके जवाब में लड़के ने क्या कहाँ ,
जल्दी ही बताएँगे !!

एक लम्हे को नही हम तुम्हे भूल पाते है
शिद्दत से मेरे जान , हम इश्क निभाते है
वफ़ा पर ना कोई दाग लगा पायेगा
ए यार , हम इतना तो अपने इश्क पर भरोसा रखते है !!
कमी जो तू महसूस करता है ,
वो कही मुझे मुझमे ही खलती है !!
मेरे पास होके भी तू खुदको अकेला जो पाता है
सुनो , मेरी जान निकलती है !!
कभी कहता था तू किस्सा है मेरा
तुझमे तुज़से भी ज्यादा हिस्सा है मेरा !
तो मेरी मौजूदगी क्यों तुझे अकेला कर देती है
मेरे इतने इश्क पर भी क्यों तेरी साँसें भारी होती है !!
गम है कोई तो मुझे बता ,
ना सिर्फ नाम से मुझे अपना हमदर्द बता
इश्क किया है मेने मुलाकातों का सौदा नही
कभी तेरी मोहब्बत में मुझे तेरे गम भी बता !!
महफूज जो तू मेरी बाहों में ,
तो किस बात का डर है
मै वजह हु ना तेरे हँसी की ,
तो तू मेरे होने पर भी अकेला क्यों है !!
तेरे गम ना सुन पाऊँ ,
तो मेरी मोहब्बत किस काम की !
मैं हमसफ़र हु जो तुम्हारी
तो फिक्र किस बात की !!

कहा सवालों ने तुमसे जवाब मांगते हैं,
हम अपनी आंखों के हिस्से का ख्वाब मांगते हैं।
हम ही को दरिया पर जाने से रोकने वाले,
हम ही से पानी का सारा हिसाब मांगते है।
अजीब लोग हैं इन पर तो रहम आता हैं,
 जो काँटे बोकर जमी से गुलाब मांगते हैं।
गुनहगार तो नज़रे हैं आपकी वरना,
कहा ये फूल से चेहरे नकाब मांगते हैं।।

ladaka ladakee donon ishk ek sa nibhaate hai !
pooree vafa ka ! ladaka phyoochar ke baare mein sochakar pareshaan hota hai !
haan yoo samajhalo laast eeyar mein hai !! apane aixams ko leke ,
 naee lagane vaalee job ko leke !
yu to koee pita apanee ladakee berojagaar ko dega nahee !
to ladaka aaj kal gumasum se rahata hai ,
khaamosh rahata hai !
ladakee ko usakee khaamoshee khalatee hai ,
vo kuchh bataata bhee nahee hai !
par ishk se usake dil ko vo padh kar usakee khaamoshee ko todana chaahatee hai !!
usee ladakee ke kuchh alphaaj
 likha mene hee hai ,
koee galatee huee to maaphee !
isake javaab mein ladake ne kya kahaan ,
jaldee hee bataenge !!

ek lamhe ko nahee ham tumhe bhool paate hai
shiddat se mere jaan , ham ishk nibhaate hai
vafa par na koee daag laga paayega
e yaar , ham itana to apane ishk par bharosa rakhate hai !!
kamee jo too mahasoos karata hai ,
vo kahee mujhe mujhame hee khalatee hai !!
mere paas hoke bhee too khudako akela jo paata hai
suno , meree jaan nikalatee hai !!
kabhee kahata tha too kissa hai mera
tujhame tuzase bhee jyaada hissa hai mera !
to meree maujoodagee kyon tujhe akela kar detee hai
mere itane ishk par bhee kyon teree saansen bhaaree hotee hai !!
gam hai koee to mujhe bata ,
na sirph naam se mujhe apana hamadard bata
ishk kiya hai mene mulaakaaton ka sauda nahee
kabhee teree mohabbat mein mujhe tere gam bhee bata !!
mahaphooj jo too meree baahon mein ,
to kis baat ka dar hai
mai vajah hu na tere hansee kee ,
to too mere hone par bhee akela kyon hai !!
tere gam na sun paoon ,
to meree mohabbat kis kaam kee !
main hamasafar hu jo tumhaaree
to phikr kis baat kee !!

kaha savaalon ne tumase javaab maangate hain,
ham apanee aankhon ke hisse ka khvaab maangate hain.
ham hee ko dariya par jaane se rokane vaale,
ham hee se paanee ka saara hisaab maangate hai.
ajeeb log hain in par to raham aata hain,
jo kaante bokar jamee se gulaab maangate hain.
gunahagaar to nazare hain aapakee varana,
kaha ye phool se chehare nakaab maangate hain..

दो बातें उनसे की तो,,,!
दिल का दर्द खो गया,,,!!
लोगों ने हमसे पूछा,,!
आज़ तुम्हे क्या हो गया,,,!!
हम बेक़रार आंखों से,,,!
बस हंस पाये,,,,,!!
ये भी ना कह पाये,,,,!
कि हमे प्यार हो गया,,,!!

do baaten unase kee to,,,!
dil ka dard kho gaya,,,!!
logon ne hamase poochha,,!
aaz tumhe kya ho gaya,,,!!
ham beqaraar aankhon se,,,!
bas hans paaye,,,,,!!
ye bhee na kah paaye,,,,!
ki hame pyaar ho gaya,,,!!


"बेमकसद" सा ही सही,,,
थोड़ा "इश्क" तू भी करले,,,
"लहलहाती" सी किसी "नदिया" सी
" तू " भी किसी "सागर" में मिल ले,,, क्यो "बेरंग" सी पड़ी है "मोहब्ब्त" की, "तस्वीर" तेरी,,,
कोई "खुशनुमा" सा,,,
"चटक" रंग "तु" भी इनमे "भरले"
बहुत "जीया" तूने,
"औरो" के लिए,
अब कुछ "दिन" तू ,
"अपने" लिए भी "जी" ले,
"खोल" दे अपने,
 ये बन्द "पिंजरों" को,
और "टूटे" इन "पंखों" से "आसमान" में "उड़"ले,
"भूल" गया है,
ये "आईना" भी,
अब तेरे "अक्स" को,
"फुर्सत" मिले तो आ,
 फिर "खुद" से "मिल" ले,
कई "ख्वाब" कुचल गए "जिम्मेदारियों" के "पाँव" तले,,,
खुली "आँखों" से फिर कुछ "ख्वाब" बुन ले,,,
 जो "बरसे"
" सावन" इस बार "तू" भी,,,
उसमें "दिल" खोल कर "भीग" ले,,,
"बंजर" हुई "जमीन" को "फिरसे"
" जीने" की एक "उम्मीद" दे,,,
तेरी "ज़िन्दगी" में जो "छूट" गए,,,
"हाथ" वो उनको "भूल" तू,,,
अब "खुद" का ही "हाथ" दे तू,,,
"भूली" हुई सी "बिखरी" सी "दास्तां"
को अब "भूलकर" थोड़ा सा ही सही, "इश्क" तू "खुद" से भी कर ले....!!!
थोड़ा_सा_इश्क़_करले

"bemakasad" sa hee sahee,,,
thoda "ishk" too bhee karale,,,
"lahalahaatee" see kisee "nadiya" see
" too " bhee kisee "saagar" mein mil le,,, kyo "berang" see padee hai "mohabbt" kee, "tasveer" teree,,,
koee "khushanuma" sa,,,
"chatak" rang "tu" bhee iname "bharale"
bahut "jeeya" toone,
"auro" ke lie,
ab kuchh "din" too ,
"apane" lie bhee "jee" le,
"khol" de apane,
 ye band "pinjaron" ko,
aur "toote" in "pankhon" se "aasamaan" mein "ud"le,
"bhool" gaya hai,
ye "aaeena" bhee,
ab tere "aks" ko,
"phursat" mile to aa,
 phir "khud" se "mil" le,
kaee "khvaab" kuchal gae "jimmedaariyon" ke "paanv" tale,,,
khulee "aankhon" se phir kuchh "khvaab" bun le,,,
 jo "barase"
" saavan" is baar "too" bhee,,,
usamen "dil" khol kar "bheeg" le,,,
"banjar" huee "jameen" ko "phirase"
" jeene" kee ek "ummeed" de,,,
teree "zindagee" mein jo "chhoot" gae,,,
"haath" vo unako "bhool" too,,,
ab "khud" ka hee "haath" de too,,,
"bhoolee" huee see "bikharee" see "daastaan"
ko ab "bhoolakar" thoda sa hee sahee, "ishk" too "khud" se bhee kar le....!!!
thoda_sa_ishq_karale


अगर मेरे साथ
कभी छेड़ छाड़ जैसी कोई घटना
हो जाये तो आप क्या करेगे?
भाई ने जवाब दिया... ..

पागल है क्या तेरे साथ ऐसा
कुछ होने ही नही दुंगा,
अगर हो गया तो भाई ??
एक एक कि जान ले लुगा,
और ऐसा मारुंगा उन
कमीनो को कि सारी दुनिया
याद रखेगी,
भाई एक बात पूछु??
हा हा पूछो ना...

क्या वो आपकी बहन
जैसी नही है जिसके
साथ ये सब होता है..??
सर झुका कर भाई ने कहां...
हां है तो बहन जैसी ही लेकिन
बहन सगी तो नही है..
भाई आप ऐसा कैसे बोल
सकते हो...
अगर कल मेरे साथ
ऐसा होता है, तो सभी ऐसा ही सोचेंगें ,
फिर आप अकेले
क्या करेंगे......??

तुमने सही कहां बहना ...
अगर हम सब
यही सोचेंगे,
तो हमारी बहने
भी खतरे मे रहेगी,
मुझे माफ कर देना....
हमारे कहने मतलब
सिर्फ इतना है कि.....
अपने घर की इज्जत
बचानी है तो दूसरो के घर
की इज्जत को भी अपना
समझो,
और ऐसे हर मामले
पर खुल कर विरोध कर पीड़ित
का साथ दे..
हम इसकी शुरुआत कर चुके,
और आप....???
बदलेगी_सोच_बदलेगा_भारत

agar mere saath
kabhee chhed chhaad jaisee koee ghatana
ho jaaye to aap kya karege?
bhaee ne javaab diya... ..


paagal hai kya tere saath aisa
kuchh hone hee nahee dunga,
agar ho gaya to bhaee ??
ek ek ki jaan le luga,
aur aisa maarunga un
kameeno ko ki saaree duniya
yaad rakhegee,
bhaee ek baat poochhu??
ha ha poochho na...


kya vo aapakee bahan
jaisee nahee hai jisake
saath ye sab hota hai..??
sar jhuka kar bhaee ne kahaan...
haan hai to bahan jaisee hee lekin
bahan sagee to nahee hai..
bhaee aap aisa kaise bol
sakate ho...
agar kal mere saath
aisa hota hai, to sabhee aisa hee sochengen ,
phir aap akele
kya karenge......??


tumane sahee kahaan bahana ...
agar ham sab
yahee sochenge,
to hamaaree bahane
bhee khatare me rahegee,
mujhe maaph kar dena....
hamaare kahane matalab
sirph itana hai ki.....
apane ghar kee ijjat
bachaanee hai to doosaro ke ghar
kee ijjat ko bhee apana
samajho,
aur aise har maamale
par khul kar virodh kar peedit
ka saath de..
ham isakee shuruaat kar chuke,
aur aap....???
badalegee_soch_badalega_bhaarat



स्त्री एक शक्ति है (Women Power)

women power  स्त्री शक्तियां कितना होता है एक स्त्री या का जिंदगी का कहानी को इस कविता पर समेटने की कोशिश किया है । 

एक नारी जॉब मैदान पर उतरती है भगवान महाकाली का रूप दिखाकर अपना पूरा काम कर लेती है एक घर से लेकर बाहर तक का सारा काम एक स्त्रियों से कर सकती है हो सकता है।

एक स्त्रिया घर का काम से लेकर छोटा से छोटा काम से बड़ा से बड़ा काम तक प्रिया भी कर लेती है उसी चीज को समग्र में कविता का जरिए दिखाने की कोशिश किया है। कविता इस प्रकार है।

स्त्री एक शक्ति है, एक कल्पना है, एक सृजनकर्ता है, एक मां है
स्त्री वो है जिसे आजतक पुरुषों ने कभी समझा ही नहीं,
जब चाहा जैसे चाहा अपने इशारों पर नचाया,
कभी सती प्रथा तो कभी जौहर में झोंक दिया,
कभी जुए में हार गया तो कभी लोगों के कहने पर चरित्रहीन समझा,
कभी बाल विवाह तो कभी दहेज से उसका सौदा किया,
कभी पैरों में बेड़ियां तो कभी बेवजह की हुकूमत की,
कभी सामुहिक बलात्कार तो कभी एसिड अटैक किया,
कभी घरेलू हिंसा तो कभी तीन तलाक दिया,
अगर गौर करें तो इस समाज में स्त्री को
किसी तमाशा से कम नहीं समझा गया,
मुझे उतनी शिकायत पुरुषों से नहीं है जितनी स्त्री से,
स्त्री ने अपनी ज़िंदगी का मोल नहीं समझा,
अपनी ज़िंदगी की लड़ाई को ख़ुद नहीं लड़ी,
बस ख़ुद हारती चली गई
बेचारी करती भी क्या वो उस समाज में पली बढ़ी थी
जहां बचपन से ही उसने ख़ुद को अभिशाप माना,
कभी कोख में बेटियों को मार दिए जाने की ख़बर सुनती तो
कभी बेटों के लिए बेटियों की पूरी फौज को तैयार होते हुए देखा,
बचपन से यही सुना कितना भी तुम पढ़ लो खाना तुम्हें बनाना है
पति की सेवा, बच्चों की देख-रेख यह सब तुम्हारा होगा
और सुनो सहनशील बनकर रहना
तभी तो मेरी परवरिश की तारीफ़ होगी,
काश की हर मां ये कहती कि बेटी
इस समाज से लड़कर तुम्हें ख़ुद को काबिल बनाना होगा
तुम्हें अपनी तकदीर ख़ुद लिखनी होगी,
तुम भी आसमान में उड़ सकती हो
तुम भी हर वो काम कर सकती जो पुरुष करते हैं
कोई और इस लड़ाई में तुम्हारा साथ दे ना दे
मैं हमेशा तुम्हारी ढाल बनकर खड़ी रहूंगी,
क्या होगा अगर ये पुरुष समाज तुम्हें हरा ही जाएगा
कम से कम आने वाली पीढ़ी तो तुम्हें
शिकायत भारी नज़रों से नहीं दिखेगी
कम से कम हजारों सवाल उसके जेहन में दफ़न तो नहीं होंगे,
तुम उन सवालों का जवाब होगी, तुम मिसाल होगी,
तुम्हारी आत्मनिर्भरता, स्वतंत्रता उन्हें प्रेरित करेंगी,
उन्मुक्त होकर वो भी अपनी ज़िंदगी जीने के लिए लड़ेगी,
स्त्रियों को उसके वजूद से मुलाकात का ज़रिया बनोगी,
तब जाकर सही मायनों में मदर टेरेसा, कल्पना चावला,
जैसे अपने क्षेत्रों में विशिष्टता को हासिल करने वाली,
उन तमाम स्त्रियों की तरह
समाज की हर बेटियां अपनी सफलता की इबारत ख़ुद लिखेंगी।
कैसी लगी आपको यें स्त्री के बारे कमेंट करके
कुछ शब्द हमें ज़रूर बताए


stree ek shakti hai, ek kalpana hai, ek srjanakarta hai, ek maan hai
stree vo hai jise aajatak purushon ne kabhee samajha hee nahin,
jab chaaha jaise chaaha apane ishaaron par nachaaya,
kabhee satee pratha to kabhee jauhar mein jhonk diya,
kabhee jue mein haar gaya to kabhee logon ke kahane par charitraheen samajha,
kabhee baal vivaah to kabhee dahej se usaka sauda kiya,
kabhee pairon mein bediyaan to kabhee bevajah kee hukoomat kee,
kabhee saamuhik balaatkaar to kabhee esid ataik kiya,
kabhee ghareloo hinsa to kabhee teen talaak diya,
agar gaur karen to is samaaj mein stree ko
kisee tamaasha se kam nahin samajha gaya,
mujhe utanee shikaayat purushon se nahin hai jitanee stree se,
stree ne apanee zindagee ka mol nahin samajha,
apanee zindagee kee ladaee ko khud nahin ladee,
bas khud haaratee chalee gaee
bechaaree karatee bhee kya vo us samaaj mein palee badhee thee
jahaan bachapan se hee usane khud ko abhishaap maana,
kabhee kokh mein betiyon ko maar die jaane kee khabar sunatee to
kabhee beton ke lie betiyon kee pooree phauj ko taiyaar hote hue dekha,
bachapan se yahee suna kitana bhee tum padh lo khaana tumhen banaana hai
pati kee seva, bachchon kee dekh-rekh yah sab tumhaara hoga
aur suno sahanasheel banakar rahana
tabhee to meree paravarish kee taareef hogee,
kaash kee har maan ye kahatee ki betee
is samaaj se ladakar tumhen khud ko kaabil banaana hoga
tumhen apanee takadeer khud likhanee hogee,
tum bhee aasamaan mein ud sakatee ho
tum bhee har vo kaam kar sakatee jo purush karate hain
koee aur is ladaee mein tumhaara saath de na de
main hamesha tumhaaree dhaal banakar khadee rahoongee,
kya hoga agar ye purush samaaj tumhen hara hee jaega
kam se kam aane vaalee peedhee to tumhen
shikaayat bhaaree nazaron se nahin dikhegee
kam se kam hajaaron savaal usake jehan mein dafan to nahin honge,
tum un savaalon ka javaab hogee, tum misaal hogee,
tumhaaree aatmanirbharata, svatantrata unhen prerit karengee,
unmukt hokar vo bhee apanee zindagee jeene ke lie ladegee,
striyon ko usake vajood se mulaakaat ka zariya banogee,
tab jaakar sahee maayanon mein madar teresa, kalpana chaavala,
jaise apane kshetron mein vishishtata ko haasil karane vaalee,
un tamaam striyon kee tarah
samaaj kee har betiyaan apanee saphalata kee ibaarat khud likhengee.
kaisee lagee aapako yen stree ke baare kament karake
kuchh shabd hamen zaroor batae

Post a comment

0 Comments