Facebook

Beautiful true Love Hindi Sher shayari in Hindi - सुंदर सच्चा प्यार हिंदी शेर शायरी हिंदी में

Hello Friend's आज मैं हिंदी शायरी लेकर आया हूं Sad Hindi shayari, Motivational shayari, Alone shayari, Shar shayari,peyarvari shayari, Hindi Gazal मिक्स शायरी लेकर आया हूं ।

शायरी जगत पर सदियों से कोई ना कोई रिश्ता पर  मिलते-जुलते दादा-दादी हो या मां-बाप भाई बहन हो या प्रेम प्रेमिका कोई ना कोई फरिश्ता पर शायरियां लिखी जाती है ।

जब कोई ना कोई रिश्ता पर टूट जाती है जुड़ जाती है या कोई सुख पर हो या दुख पर हो कोई ना कोई रिश्ता पर ही दिल से वाचन करना या लिख कर देखकर अपना दिल को काबू पर रखने के लिए ।

 या अपना दिल का भावनाएं प्रकट करने के लिए कोई भी व्यक्ति शायरी  को सहारा बना देता है वैसे से दुख पर ही नहीं दिल चाहने पर कोई भी व्यक्ति लिखकर  वाचन करके भी बता देता है ।


https://www.nepalishayari.com/2020/04/new-best-motivational-heart-touching.html
shayari image


    दुख:द शायरी (sad shayari)



मेरी खामोशियों में भी फसाना ढूंढ लेती है.....
बडी अजीब है ये दुनिया, बहाना ढूंढ लेती है,
हकीकत जिद किए बैठी है चकनाचूर करने को....
पर हर आँख फिर से सपना सुहाना ढूंढ लेती है,
न चिडिया की कमाई है न कारोबार है कोई....
वो केवल हौसले से आबोदाना ढूंढ लेती है,
उठाती है जो खतरा हर कदम पर डूब जाने का....
वही कोशिश समंदर मे खजाना ढूंढ लेती है,
जुनूं मंजिल का, राहों में बचाता है भटकने से....
मेरी दीवानगी... अपना ठिकाना ढूंढ लेती है .....!!

meree khaamoshiyon mein bhee phasaana dhoondh letee hai.....

badee ajeeb hai ye duniya, bahaana dhoondh letee hai,

hakeekat jid kie baithee hai chakanaachoor karane ko....

par har aankh phir se sapana suhaana dhoondh letee hai,

na chidiya kee kamaee hai na kaarobaar hai koee....

vo keval hausale se aabodaana dhoondh letee hai,

uthaatee hai jo khatara har kadam par doob jaane ka....

vahee koshish samandar me khajaana dhoondh letee hai,

junoon manjil ka, raahon mein bachaata hai bhatakane se....

meree deevaanagee... apana thikaana dhoondh letee hai .....!!


खिलते हैं गुल बागानों में
जब तुम साथ होती हो।
हंसते हैं हम दिल ही दिल में
जब तुम साथ होती हो।
गुलजार लगती है जिन्दगी गमों में
जब तुम साथ होती हो।
थम सा जाता है वक्त उस घडी में
जब तुम साथ होती हो।
मोहरे ठहर जाते हैं बिसाते शतरंज में
जब तुम साथ होती हो।
बेअसर शराब हो जाती है महखाने में
जब तुम साथ होती हो।
रंग नजर आता है तपती फिजाओं में
जब तुम साथ होती हो।
चन्दा भी बेनूर लगता है रातों में
जब तुम साथ होती है।

khilate hain gul baagaanon mein

jab tum saath hotee ho.

hansate hain ham dil hee dil mein

jab tum saath hotee ho.

gulajaar lagatee hai jindagee gamon mein

jab tum saath hotee ho.

tham sa jaata hai vakt us ghadee mein

jab tum saath hotee ho.

mohare thahar jaate hain bisaate shataranj mein

jab tum saath hotee ho.

beasar sharaab ho jaatee hai mahakhaane mein

jab tum saath hotee ho.

rang najar aata hai tapatee phijaon mein

jab tum saath hotee ho.

chanda bhee benoor lagata hai raaton mein

jab tum saath hotee hai.


Motivational Shayari -प्रेरक शायरी



हर रिश्ते में थोड़ा फासला रखिए
अभी से ही सही ये फैसला रखिए
दूरियां खलेंगी लेकिन खिलेंगी भी
अपने अहसासों पर हौसला रखिए
हर कोई तो ख़ुशी का कायल नहीं
हर घड़ी कोई नया मसअला रखिए
सीख जाएंगें दिल बहलाने का हुनर
हर मौसम में ही नया जुमला रखिए
तय हो जाएंगी ऐसे हर कठिन डगर
ज़मीर में सलामत मुआमला रखिए

har rishte mein thoda phaasala rakhie

abhee se hee sahee ye phaisala rakhie

dooriyaan khalengee lekin khilengee bhee

apane ahasaason par hausala rakhie

har koee to khushee ka kaayal nahin

har ghadee koee naya masala rakhie

seekh jaengen dil bahalaane ka hunar

har mausam mein hee naya jumala rakhie

tay ho jaengee aise har kathin dagar

zameer mein salaamat muaamala rakhie


Alone Shayari - अकेली शायरी



वो मुझे महंदी लगे हाथ दिखा कर रोई .
में किसी और की ह बस इतना बता कर रोई .
उमर भर की जदाई का ख्याल आया था शायद !!
वो मुझे पास अपने देर तक बिठा कर रोई ..
अब के न सही जरूर हषर मैं मिलेंगे !!
यकजा होने के दिलास दिला कर रोई .
कभी कहती थी के मैं नहीं जी पाऊँगी तुम्हारे बिन !!
और आज फिर वो ये बात दोहरा कर रोई !!
मुझ पे इक कुराब का तफ़ान हो गया है !!
जब मेरे सामने मेरे खत जला कर रोई !!.
मेरी नफरत और अदावत पिघल गई इक पल में !!
वो बे-वफ़ा ह तो क्यूँ मुझे रुला कर रोई !!
मुझ से जायदा बिछड़ने का गम उसे था !!
वक़्त -ए-रुखसत वो मझे सिने से लगा कर रोई !!
मैं बेकसूर हु , कुदरत का फसला है ये !!
लिपट के मुझ से बस वो इतना बता कर रोई !!
सब शिकवे मेरे इक पल में बदल गए !!
झील सी आखों में जब आंसू सजा कर रोई .
केसे उस की मोहब्बत पर शक करें हम !!
भरी महफ़िल म वो मुझे गले लगा कर रोई!!
आख़री आस भी जब टूटती देखी ऊसने,
अपनी डोलीके चिलमनको गिरा कर रोई।

vo mujhe mahandee lage haath dikha kar roee .

mein kisee aur kee ha bas itana bata kar roee .

umar bhar kee jadaee ka khyaal aaya tha shaayad !!

vo mujhe paas apane der tak bitha kar roee ..

ab ke na sahee jaroor hashar main milenge !!

yakaja hone ke dilaas dila kar roee .

kabhee kahatee thee ke main nahin jee paoongee tumhaare bin !!

aur aaj phir vo ye baat dohara kar roee !!

mujh pe ik kuraab ka tafaan ho gaya hai !!
jab mere saamane mere khat jala kar roee !!.

meree napharat aur adaavat pighal gaee ik pal mein !!

vo be-vafa ha to kyoon mujhe rula kar roee !!

mujh se jaayada bichhadane ka gam use tha !!

vaqt -e-rukhasat vo majhe sine se laga kar roee !!

main bekasoor hu , kudarat ka phasala hai ye !!

lipat ke mujh se bas vo itana bata kar roee !!

sab shikave mere ik pal mein badal gae !!

jheel see aakhon mein jab aansoo saja kar roee .

kese us kee mohabbat par shak karen ham !!

bharee mahafil ma vo mujhe gale laga kar roee!!

aakharee aas bhee jab tootatee dekhee oosane,

apanee doleeke chilamanako gira kar roee.


तुम्हें खोना और पाना बार बार,
सर्द रातें और आकाश में तारे हजार,
एक चाय और तुमसे बातें दो चार,
और क्या चाहिए।
हाथों में कंगन कजरे की धार,
देख लिया दर्पण भी सौ बार,
पडे़ तुम्हारी नज़र तो पूरा हो श्रंगार
और क्या चाहिए।

tumhen khona aur paana baar baar,

sard raaten aur aakaash mein taare hajaar,

ek chaay aur tumase baaten do chaar,

aur kya chaahie.

haathon mein kangan kajare kee dhaar,

dekh liya darpan bhee sau baar,

pade tumhaaree nazar to poora ho shrangaar

aur kya chaahie.


हर एक की बात को
दिल पर नही लिया जाता...
राह चलते किसी से प्यार
किया नहीं जाता...
लोग बना लेते हैं मज़ाक
आंसूओं का अक्सर...
सब के सामने मोहब्बत के
ज़ख्मों को सिया नहीँ जाता...
छोड़ दो तुम शराब तुम्हारे बस का काम नही...
क्या तुम्हे मालूम नही जाम को
नाप कर पीया नहीं जाता...
मौत से बड़ी शह मोहब्बत की है मेरे दोस्त...
टूटा दिल लेकर उम्र भर जीया नहीं जाता...

har ek kee baat ko

dil par nahee liya jaata...

raah chalate kisee se pyaar

kiya nahin jaata...

log bana lete hain mazaak

aansooon ka aksar...

sab ke saamane mohabbat ke

zakhmon ko siya naheen jaata...

chhod do tum sharaab tumhaare bas ka kaam nahee...

kya tumhe maaloom nahee jaam ko

naap kar peeya nahin jaata...

maut se badee shah mohabbat kee hai mere dost...

toota dil lekar umr bhar jeeya nahin jaata...


Sher Shayari- शायर शायरी



मैं भी तुम भी और रात भी यहीं हैं
मगर दोनों की सोच चादर ओढ़ कर सो गई...
अल्फ़ाज़ कहीं टहलने निकल गए
हालात ने आवाज़ को डरा रखा हैं
रात की ठण्ड साँसों के साथ जिस्म में उतर रही हैं...
बस ये चार आँखें एक दूसरे से पूछ रही हैं
तवील उम्र जीयेंगे या काटेंगे??
इसका जवाब कौन देगा
रात की ख़ामोशी या चाँद की ये रौशनी..
main bhee tum bhee aur raat bhee yaheen hain

magar donon kee soch chaadar odh kar so gaee...

alfaaz kaheen tahalane nikal gae

haalaat ne aavaaz ko dara rakha hain

raat kee thand saanson ke saath jism mein utar rahee hain...

bas ye chaar aankhen ek doosare se poochh rahee hain

taveel umr jeeyenge ya kaatenge??

isaka javaab kaun dega

raat kee khaamoshee ya chaand kee ye raushanee..


मेरे नाम में शामिल तुम्हारा नाम होने दो,
मैं तुमसे प्यार करती हूँ ये चर्चा आम होने दो।।
जब कोई इतना खास बन जाए,
उसके बारे मे ही सोचना एहसास बन जाए,
तो माँग लेना खुदा से उसे ज़िंदगी के लिए,
इससे पहले के वो किसी ओर की साँस बन जाए.

mere naam mein shaamil tumhaara naam hone do,

main tumase pyaar karatee hoon ye charcha aam hone do..

jab koee itana khaas ban jae,

usake baare me hee sochana ehasaas ban jae,

to maang lena khuda se use zindagee ke lie,

isase pahale ke vo kisee or kee saans ban jae.


ये दुनिया समय के साथ तेजी से निकलती गयी है,
इसलिये आज के युग में प्रेम की सवेंदना बदल सी गयी है,
जरूरी नहीं एक लड़का लड़की में ही प्रेम हो,
प्रेम तो हर पल है किसी से भी हो सकता है,
प्रेम तो मन में अंकुरित बीज की तरह है,
प्रेम में प्रफुलित मन प्रीत की तरह है,

ye duniya samay ke saath tejee se nikalatee gayee hai,

isaliye aaj ke yug mein prem kee savendana badal see gayee hai,

jarooree nahin ek ladaka ladakee mein hee prem ho,

prem to har pal hai kisee se bhee ho sakata hai,

prem to man mein ankurit beej kee tarah hai,

prem mein praphulit man preet kee tarah hai,


लगता है भूल चूका हूँ,
मुस्कुराने का हुनर,
कोशिश जब भी करता हूँ,
आंसू निकल ही आते है."
ये तो ज़मीन की फितरत है की
वो हर चीज को मिटा देती है......
वर्ना तेरी याद में गिरने वाले
आंसुओ का अलग समुंदर होता

lagata hai bhool chooka hoon,

muskuraane ka hunar,

koshish jab bhee karata hoon,

aansoo nikal hee aate hai."

ye to zameen kee phitarat hai kee

vo har cheej ko mita detee hai......

varna teree yaad mein girane vaale

aansuo ka alag samundar hota




ज़िन्दगी एक लंबी सड़क है मेरी हादसों से भरी
कहीं खण्डहर नज़र आते हैं तो कहीं सुनसान है पड़ी,
मैं जीने की जिद्द लिए खड़ा हूँ,
वो हाथ में खंजर लिए खड़ी,
कभी कभी मंजिल पाने की खुशी में तेज चला,
तो हवाये भी उल्टी है चली
कदम रोकने की साजिश भी मेरे अपनो ने रची,
लिखना चाहूं तो नाम उनका भी लिखूं,
पर कलम सदा सबके हित में चली

zindagee ek lambee sadak hai meree haadason se bharee

kaheen khandahar nazar aate hain to kaheen sunasaan hai padee,

main jeene kee jidd lie khada hoon,

vo haath mein khanjar lie khadee,

kabhee kabhee manjil paane kee khushee mein tej chala,

to havaaye bhee ultee hai chalee

kadam rokane kee saajish bhee mere apano ne rachee,

likhana chaahoon to naam unaka bhee likhoon,

par kalam sada sabake hit mein chalee


दिल परेशान है तेरे बगैर
जिन्दगी बेजान है तेरे बगैर
लौट आ फिर से मेरे हमदम
सब कुछ वीरान है तेरे बगैर
रात की नींद दिन का सुकून
आना कहा आसान है तेरे बगैर
फिरते रहते पागलो की तरह इधर से उधर
लगता नही दिल बहुत नुकसान है तेरे बगैर

dil pareshaan hai tere bagair

jindagee bejaan hai tere bagair

laut aa phir se mere hamadam

sab kuchh veeraan hai tere bagair

raat kee neend din ka sukoon

aana kaha aasaan hai tere bagair

phirate rahate paagalo kee tarah idhar se udhar

lagata nahee dil bahut nukasaan hai tere bagair


बादल निगाहों का तेरी याद में बरसता है.
ए जो आशिक है तेरा
तेरे दीदार को तरसता है.
ना जाने कहां खो गए  तुम
मुझे भूलकर.
आज मालूम हुआ दुनिया मे तूम्हारी
मोहब्बत से ज्यादा तो दर्द ही सस्ता है..

baadal nigaahon ka teree yaad mein barasata hai.

e jo aashik hai tera

tere deedaar ko tarasata hai.

na jaane kahaan kho gae  tum

mujhe bhoolakar.

aaj maaloom hua duniya me toomhaaree

mohabbat se jyaada to dard hee sasta hai..


हँसता हुआ चेहरा
आपकी शान बढ़ाता है
 मगर..
 हँसकर किया हुआ कार्य
 आपकी पहचान बढ़ाता है
  कौन कहता है कि
  इंसान खाली हाथ आता है
और खाली हाथ जाता है ?
   ऐसा नहीं  है.,
 इंसान भाग्य लेकर आता है
  और
कर्म लेकर जाता है

hansata hua chehara
aapakee shaan badhaata hai
 magar..
 hansakar kiya hua kaary
 aapakee pahachaan badhaata hai
  kaun kahata hai ki
  insaan khaalee haath aata hai
aur khaalee haath jaata hai ?
   aisa nahin  hai.,
 insaan bhaagy lekar aata hai
  aur
karm lekar jaata hai


आजकल खुद पर थोड़ा ज्यादा ऐताबर कर रहा हूँ।
पहले दिल में था कोई, अब खुद से प्यार कर रहा हूँ।
पहले कोशिश सिर्फ एक बार की ख़्वाबों के लिए।
ख़्वाब हों पूरे अब मैं कोशिश कई बार कर रहा हूँ।
लोगों ने जैसा चाहा मैं वैसा ही बनता रहा हमेशा।
आज लगा कि मैं अपनी ज़िन्दगी बेकार कर रहा हूँ।
बहुत ही जल्द मान लेता था हार मैं अपनी लेकिन।
अब हारने के बाद भी जीत का इंतज़ार!.

aajakal khud par thoda jyaada aitaabar kar raha hoon.

pahale dil mein tha koee, ab khud se pyaar kar raha hoon.

pahale koshish sirph ek baar kee khvaabon ke lie.

khvaab hon poore ab main koshish kaee baar kar raha hoon.

logon ne jaisa chaaha main vaisa hee banata raha hamesha.

aaj laga ki main apanee zindagee bekaar kar raha hoon.

bahut hee jald maan leta tha haar main apanee lekin.

ab haarane ke baad bhee jeet ka intazaar!.


साथ रहो तो सबसे बेहतर,
मौन रहो आभारी है
सत्ता की कविता से केवल,
इतनी रिश्तेदारी है
सारी दुविधा प्रतिशत पर है,
सच कितना बोला जाए
गूँगे सीखा रहे हैं हमको,
मुँह कितना खोला जाए।

saath raho to sabase behatar,

maun raho aabhaaree hai

satta kee kavita se keval,

itanee rishtedaaree hai

saaree duvidha pratishat par hai,

sach kitana bola jae

goonge seekha rahe hain hamako,

munh kitana khola jae.


   ग़ज़ल (Gzal)



खूबसूरत ख़याल लिखता हूँ
फिर तेरा हाल चाल लिखता हूँ।
सच अगर सच ही कह दिया तो फिर,
सब कहेंगे वबाल...........लिखता हूँ।
तंज़ करता नहीं.... किसी पे मैं,
सिर्फ़ अपना मलाल लिखता हूँ।
फ़ुरक़तों की सदी नहीं लिखता,
वस्ल के पल को साल लिखता हूँ।
दुश्मनी ख़त्म कर दिया सारी,
दोस्ती को बहाल ...लिखता हूँ।
भूख मंहगाई ...रोज़गार के मैं,
जाने कितने सवाल लिखता हूँ।
लोग तारीफ़........ झूठ करते हैं,
या मैं सचमुच कमाल लिखता हूँ।


khoobasoorat khayaal likhata hoon

phir tera haal chaal likhata hoon.

sach agar sach hee kah diya to phir,

sab kahenge vabaal...........likhata hoon.

tanz karata nahin.... kisee pe main,

sirf apana malaal likhata hoon.

furaqaton kee sadee nahin likhata,

vasl ke pal ko saal likhata hoon.

dushmanee khatm kar diya saaree,

dostee ko bahaal ...likhata hoon.

bhookh manhagaee ...rozagaar ke main,

jaane kitane savaal likhata hoon.

log taareef........ jhooth karate hain,

ya main sachamuch kamaal likhata hoon.


पल दो पल का यहां ठिकाना है।
ज़िन्दगी क्या है हमने जाना है ।।
मिलना है गर किसी से हंस के मिलो।
एक दिन छोड़ सबको जाना है ।।
करनी हासिल है गर तुम्हे जन्नत।
बाप मां को नहीं सताना है ।।
नफ़रतें खत्म दिल से सब करके।
प्यार के दीप अब जलाना है ।।


pal do pal ka yahaan thikaana hai.

zindagee kya hai hamane jaana hai ..

milana hai gar kisee se hans ke milo.

ek din chhod sabako jaana hai ..

karanee haasil hai gar tumhe jannat.

baap maan ko nahin sataana hai ..

nafaraten khatm dil se sab karake.

pyaar ke deep ab jalaana hai ..


कुछ बातें हम से सुना करो,
कुछ बातें हम से किया करो ।
मुझे दिल की बात बता दो तुम,
होंठ ना अपने सिया करो।
जो बात लबों तक ना आए,
वो आंखों से कह दिया करो।
कुछ बातें कहना मुश्किल है,
तुम चहरे से पढ़ लिया करो।
जब तनहा-तनहा होते हो,
आवाज मुझे तुम दिया करो।
हर धड़कन मेरे नाम करो,
हर सांस मुझको दिया करो।
जो खुशियां तेरी चाहत हैं,
मेरे दामन से चुन लिया करो।

kuchh baaten ham se suna karo,

kuchh baaten ham se kiya karo .

mujhe dil kee baat bata do tum,

honth na apane siya karo.

jo baat labon tak na aae,

vo aankhon se kah diya karo.

kuchh baaten kahana mushkil hai,

tum chahare se padh liya karo.

jab tanaha-tanaha hote ho,

aavaaj mujhe tum diya karo.

har dhadakan mere naam karo,

har saans mujhako diya karo.

jo khushiyaan teree chaahat hain,

mere daaman se chun liya karo


ख़ुद में रह कर वक़्त बिताओ तो अच्छा है,
ख़ुद का पहचान ख़ुद से कराओ तो अच्छा है..
इस दुनिया की भीड़ में चलने से तो बेहतर,
ख़ुद के साथ में घूमने जाओ तो अच्छा है..
अपने घर के रोशन दीपक देख लिए अब,
ख़ुद के अन्दर दीप जलाओ तो अच्छा है..
तेरी, मेरी इसकी उसकी छोडो भी अब,
ख़ुद से ख़ुद की शक्ल मिलाओ तो अच्छा है..
बदन को महकाने में सारी उम्र काट ली,
रूह को अब अपनी महकाओ तो अच्छा है..
दुनिया भर में घूम लिए हो जी भर के अब,
वापस ख़ुद में लौट के आओ तो अच्छा है..
तन्हाई में खामोशी के साथ बैठ कर,
ख़ुद को ख़ुद की ग़ज़ल सुनाओ तो अच्छा है..


khud mein rah kar vaqt bitao to achchha hai,

khud ka pahachaan khud se karao to achchha hai..

is duniya kee bheed mein chalane se to behatar,

khud ke saath mein ghoomane jao to achchha hai..

apane ghar ke roshan deepak dekh lie ab,

khud ke andar deep jalao to achchha hai..

teree, meree isakee usakee chhodo bhee ab,

khud se khud kee shakl milao to achchha hai..

badan ko mahakaane mein saaree umr kaat lee,

rooh ko ab apanee mahakao to achchha hai..

duniya bhar mein ghoom lie ho jee bhar ke ab,

vaapas khud mein laut ke aao to achchha hai..

tanhaee mein khaamoshee ke saath baith kar,

khud ko khud kee gazal sunao to achchha hai..


 लड़के भी रोते हैं....( Ladake bhee rote hain ..)



घर में बच्चे लेकिन बाहर मशहूर होते है .
अजी लड़के भी रोते हैं जब घर से दूर होते है,
लड़के भी घर से बाहर मम्मी के बगैर होते है.
यदि लड़की घर की लक्ष्मी तो लड़के भी कुबैर होते है,
बस यादें ही जा पाती है अपने गांव जमीनों तक.
लड़के भी कहाँ जा पाते हैं कई साल महीनों तक,
अपनों की सपनों के खातिर ये भी मजबूर होते हैं.
अजी लड़के भी रोते हैं जब घर से दूर होते हैं।
हमेशा सोचते है
घर के बारे मे पर खड़े कहीं और होते हैं
सिर्फ लडकियां ही नहीं
लड़के भी दिल के बडे़ कमजोर होते हैं
विश्व जीतने का एक सिंकदर इनमें भी होता है.
बस रोते नहीं पर एक समंदर इनमें भी होता है,
यदि लड़की पापा की परी तो
लड़के भी कोहिनूर होते हैं,
अजी लड़के भी रोते हैं जब घर से दूर होते हैं।
माना की लड़कियों को
घर छोड़ जाने का एक डर होता है
लेकिन इनका एक घर के बाद दूसरा घर होता है,
माना लड़कों को कोई डर नहीं होता.
ये नौकरी तो कई शहरों मे करते हैं
पर इनका कोई घर नहीं होता,
चंद पैसों के खातिर इनके भी सपने चूर होते है
अजी लड़के भी रोते हैं जब घर से दूर होते है,...


ladake bhee rote hain....

ghar mein bachche lekin baahar mashahoor hote hai .

ajee ladake bhee rote hain jab ghar se door hote hai,

ladake bhee ghar se baahar mammee ke bagair hote hai.

yadi ladakee ghar kee lakshmee to ladake bhee kubair hote hai,

bas yaaden hee ja paatee hai apane gaanv jameenon tak.

ladake bhee kahaan ja paate hain kaee saal maheenon tak,

apanon kee sapanon ke khaatir ye bhee majaboor hote hain.

ajee ladake bhee rote hain jab ghar se door hote hain.
hamesha sochate hai

ghar ke baare me par khade kaheen aur hote hain

sirph ladakiyaan hee nahin

ladake bhee dil ke bade kamajor hote hain

vishv jeetane ka ek sinkadar inamen bhee hota hai.

bas rote nahin par ek samandar inamen bhee hota hai,

yadi ladakee paapa kee paree to

ladake bhee kohinoor hote hain,

ajee ladake bhee rote hain jab ghar se door hote hain.
maana kee ladakiyon ko

ghar chhod jaane ka ek dar hota hai

lekin inaka ek ghar ke baad doosara ghar hota hai,

maana ladakon ko koee dar nahin hota.

ye naukaree to kaee shaharon me karate hain

par inaka koee ghar nahin hota,

chand paison ke khaatir inake bhee sapane choor hote hai

ajee ladake bhee rote hain jab ghar se door hote hai,.

 अगर आप लोग को अच्छा लगा अपना मत देना कंजूसी मत करना क्योंकि आप का एकमत मेरा लिए बहुत ही बड़ा होता है । मैं हिंदी शायरी लिखने के लिए दिल से बहुत ही कोशिश कर रहा हूं अगर आप लोग का राय मिले तो मैं उसको अच्छा बना पाऊंगा इसलिए आपका मत देना नहीं भूलना धन्यवाद ।

Post a comment

0 Comments